मांस बिक्री के मुद्दे पर योगी सरकार का सख्त रुख, लिया बड़ा फैसला


स्टोरी हाइलाइट्स

यूपी की योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, महापुरुषों की जयंती और शिवरात्रि पर नहीं बिक सकता मांस, नियम का कड़ाई से पालन 

योगी सरकार ने एक अहम फैसला लेते हुए कहा है कि महापुरुषों और शिवरात्रि के दिन अब से बूचड़खाने और मांस की दुकानें बंद रहेंगी. इसी नियम के तहत सिंधी समुदाय के संत टी एल वासवानी की जयंती के अवसर पर 25 नवंबर यानि आज क्षेत्र के बूचड़खानों और मांस की दुकानों को बंद रखने का आदेश दिया गया है.

नगर विकास विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रजनीश दुबे ने इस मुद्दे पर प्रत्येक जिले के जिला आयुक्तों और जिला अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि इस नियम का कड़ाई से पालन किया जाए.

लोक व्यवस्था में कहा गया कि आज टीएल वासवानी की जयंती है. बूचड़खानों को छोड़कर सभी शहरी इलाकों में मीट की दुकानें बंद रहेंगी. हर जिला अधिकारी को आदेश का कड़ाई से पालन करने का आदेश दिया गया है.

आदेश में कहा गया है कि महावीर जयंती, बुद्ध जयंती, गांधी जयंती, शिवरात्रि और साधु टीएल वासवानी की जयंती के अवसर पर कस्बे के बूचड़खाने को छोड़कर मांस की दुकानें बंद रहेंगी. इसके पीछे तर्क यह है कि जिन महापुरुषों ने अहिंसा का संदेश दिया और उनकी जयंती मनाई, उन्हें त्योहार के मद्देनजर अहिंसा दिवस के रूप में मनाने का आदेश दिया गया है.

2017 में सत्ता में आने के बाद योगी सरकार ने अवैध सालोगबटर हाउस पर नकेल कसी. साथ ही खुले में मीट की बिक्री पर भी रोक लगा दी गई है.

प्रियम मिश्र

प्रियम मिश्र