सिरदर्द या चक्कर आए तो इसे न करें नजरअंदाज..! डॉक्टर से लें सलाह


स्टोरी हाइलाइट्स

सिरदर्द एक बहुत ही आम समस्या है. ज्यादातर लोग सिरदर्द से कभी न कभी पीड़ित जरूर होते हैं. सिरदर्द क्यों होता है, इसका कारण और लक्षण, हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकता है..!

भाग-दौड़ भरी इस लाइफस्टाइल में बहुत कम लोग होंगे, जिन्हें सिरदर्द की समस्या न होती हो..! अपने बिजी शेड्यूल की वजह से संभव है कि आप इस समस्या के शिकार हो। कई बार आप काम में सिरदर्द को हल्के में ले लेते हैं और दर्द निवारक दवाएं लेकर उन्हें नजरअंदाज कर देते हैं। यह आदत आपको परेशानी में डाल सकती है क्योंकि सिरदर्द एक सामान्य ब्रेन ट्यूमर का लक्षण हो सकता है। अगर आपके शरीर में जरा सा भी बदलाव है तो जरूरी है कि आप इसे समझें और नजरअंदाज करने की बजाय डॉक्टर से सलाह लें..!

ब्रेन ट्यूमर क्या है?

मस्तिष्क में कोशिकाओं की अनियंत्रित और असामान्य वृद्धि को ब्रेन ट्यूमर कहा जाता है। यह 2 प्रकार का होता है। पहला प्राथमिक और दूसरा माध्यमिक..! प्राथमिक ट्यूमर में मस्तिष्क की कोशिकाएं असामान्य रूप से विकसित होती हैं। एक सेकेंडरी ट्यूमर में शरीर के दूसरे हिस्से से असामान्य कोशिकाएं मस्तिष्क में फैल जाती हैं। माध्यमिक ब्रेन ट्यूमर प्राथमिक की तुलना में तेजी से फैलता है। स्तन, फेफड़े और त्वचा के कैंसर भी सिर को प्रभावित करते हैं और घातक हो सकते हैं।

सरदर्द-

ये हैं ब्रेन ट्यूमर के शुरुआती लक्षण-

1. सिर में दर्द
2. चक्कर आना या उल्टी
3. शरीर में कमजोरी
4. खड़े या चलते समय संतुलन खोना
5. सुनने या बोलने में कठिनाई

क्या करें और क्या न करें-

सिरदर्द एक आम बात है, हम डॉक्टर के पास जाने के बजाय कुछ आराम और घरेलू उपचार करते हैं। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि दर्द निवारक दवाओं से भी यह दूर नहीं होता है। ऐसे में आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। यदि ये लक्षण दिखाई दें तो दर्द निवारक दवाओं के प्रभाव से अस्थायी राहत मिलती है। लेकिन फिर से समस्याएं शुरू हो जाती हैं। इसलिए बार-बार दवा न लें और सबसे पहले डॉक्टर को दिखाएं।

विशेषज्ञों का कहना है कि अगर सही समय पर ब्रेन ट्यूमर का पता चल जाए तो इसे ठीक किया जा सकता है। खान पान पर भी विशेष ध्यान दें। एक स्वस्थ जीवन शैली में व्यायाम और अच्छी नींद की भी आवश्यकता होती है।