वर्ल्ड चेंपियन बनीं इंडिया की निखत जरीन, वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप ने जीता गोल्ड


स्टोरी हाइलाइट्स

फाइनल में थाईलैंड की जुटामास जितपोंग को हराकर खिताब जीता, भारत को 4 साल बाद गोल्ड मिला

भारतीय मुक्केबाज निखत जरीन नई वर्ल्ड चेंपियन बन गईं हैं. उन्होंने विमेंस वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में देश के लिए गोल्ड मेडल जीता और अपने नाम पर यह उपलब्धि हासिल की। निखत ने फ्लाई वेट कैटेगरी 52 KG के फाइनल मैच में थाईलैंड की जुटामास जितपों को हराया। भारत की 25 साल की इस युवा मक्केबाज ने 5-0 से एकतरफा अंदाज में यह बाउट अपने नाम की। महिला वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत को पूरे 4 साल बाद गोल्ड मिला है। इससे पहले सन 2018 में एमसी मेरीकॉम वर्ल्ड चैंपियन बनी थीं।

निखत जरीन ने बाउट की शुरुआत शानदार अंदाज में करते हुए पहला राउंड 5-0 के अंतर से अपने नाम किया। दूसरे राउंड में थाई मुक्केबाज ने 3-2 से जीतकर मुकाबले में वापसी के संकेत दिए। पर निखत ने तीसरे राउंड में फिर से जबर्दस्त दमखम दिखाते हुए जीत हासिल करते हुए बाउट को ओवरऑल 5-0 के अंतर से जीत लिया। निखत पूरे टूर्नामेंट में शानदार फॉर्म में दिखीं। उन्होंने अपने सभी मुकाबले 5-0 से एकतरफा अंदाज में अपने नाम किए। राउंड ऑफ 32 में निखत जरीन ने मैक्सिको की फातिमा हेरेरा को हरा दिया। क्वार्टर फाइनल में उन्होंने इंग्लैंड की चार्ली डेविसन को हराया। सेमीफाइनल में ब्राजील की कैरोलिन डी अल्मेडा को हराया था. अब निखत जरीन 2024 ओलिंपिक गेम्स में मेडल की दावेदार होंगी।

निखत के इस गोल्ड को मिलाकर भारत ने विमेंस वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप के इतिहास में 10वां गोल्ड जीता है। 6 गोल्ड मेडल तो अकेले एमसी मेरीकॉम ने जीते। इनके अलावा भारत के लिए सरिता देवी, जेनी आरएल और लेखा सी ने भी गोल्ड मेडल जीता है। भारत ने इस बार 1 गोल्ड और 2 ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं। भारत का इस प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सन 2006 में रहा जब देश ने चार स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य समेत कुल आठ पदक जीते थे।