Diwali 2021: दीपावली पर चंद्र-मंगल केंद्र और शनि का शश योग


स्टोरी हाइलाइट्स

30 वर्ष बाद हो रहा ग्रहों, नक्षत्रों और योगों का यह विशेष संयोग

धन की अधिष्ठात्री देवी लक्ष्मी की आराधना का महान पर्व दीपावली इस बार चंद्र-मंगल के मध्य और शनि के छठे योग के साक्षी के रूप में मनाई जाएगी। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दिवाली के दिन ऐसे शुभ योगों का योग लक्ष्मी प्राप्ति के लिए विशेष माना जाता है। ज्योतिषियों के अनुसार दिवाली पर 30 साल बाद ग्रहों, नक्षत्रों और योग का यह विशेष संयोग बन रहा है। ज्योतिषी के अनुसार चित्र नक्षत्र में दीपावली 4 नवंबर गुरुवार से शुरू होगी और स्वाति नक्षत्र के साक्षी प्रीति और आयुष्मान योग के संयुक्त क्रम में दीपोत्सव मनाया जाएगा। ग्रहों के गोचर की गणना पर नजर डालें तो दिवाली पर ग्रहों, नक्षत्रों और योगों का एक विशेष क्रम बन रहा है। जिसमें केंद्र के नीचे चंद्रमा, मंगल और शनि का विशेष संयोग देखने को मिलेगा। यह भी कहा जा सकता है कि यह धीरे-धीरे बेहतर होगा। साथ ही सूर्य, मंगल और चंद्रमा की युति विशेष लाभ देगी। इतना ही नहीं शुभ ग्रहों का योग भी केंद्र में सहायक होगा।

शनि मकर राशि का केंद्र होने के कारण छठा योग बन रहा 

भारतीय ज्योतिष में पंच महापुरुष योग का उल्लेख मिलता है। उन योगों में एक योग भी है जिसे शश कहते हैं। यह योग तब किया जाता है जब शनि अपनी राशि में स्थित हो। इस बार शनि मकर राशि में रहेगा। यह स्थिति जनता के अनुकूल मानी जाती है। यह व्यवसाय विकास में एक नई शुरुआत की शुरुआत होगी।

प्रदोष काल पूजा के लिए विशेष

दिवाली पर पूजा में विश्वास विशिष्ट क्षण पर निर्भर करता है। उत्तम समय पर पूजा करने से उत्तम फल की प्राप्ति होती है। शास्त्रों के अनुसार लक्ष्मी की पूजा करने का सबसे अच्छा समय प्रदोष काल है। वहीं वृष भी विवाह का साक्षी है। इस बार प्रदूषण कल शाम 6.20 बजे से रात 8.20 बजे तक रहेगा. इस समय पंचोपचार और षोडशोपचार की पूजा करनी चाहिए।

प्रियम मिश्र

प्रियम मिश्र