4 एस्केलेटर, 6 लिफ्ट, एसी वेटिंग रूम... किसी फाइव स्टार होटल से कम नहीं है अयोध्या धाम जंक्शन


Image Credit : twitter

स्टोरी हाइलाइट्स

इस नई बिल्डिंग का उद्घाटन 30 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे, इस मौके पर वह वंदे भारत और अमृत भारत एक्सप्रेस को भी हरी झंडी दिखाएंगे..!!

रामनगरी की गरिमा के अनुरूप अयोध्याधाम जंक्शन का नया भवन मंदिर के रूप में बनकर तैयार है। रात के समय रंग-बिरंगी रोशनी के बीच इस रेलवे स्टेशन का नजारा देखने लायक है। इस नई बिल्डिंग का उद्घाटन 30 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इस मौके पर वह वंदे भारत और अमृत भारत एक्सप्रेस को भी हरी झंडी दिखाएंगे।

अयोध्या धाम जंक्शन की नई बिल्डिंग का पहले चरण का काम पूरा हो गया है। स्टेशन भवन का बाहरी भाग एक मंदिर जैसा दिखता है जिसकी दीवारें गुलाबी पत्थरों से बनी हैं। शीर्ष पर स्थित मुकुट इमारत की सुंदरता को बढ़ाता है। जहां एक्सटीरियर आकर्षक है, वहीं इंटीरियर भी काफी अच्छा दिखाई दे रहा है। अयोध्याधाम जंक्शन का नक्शा लखनऊ की संस्था म्यूरलएज ने तैयार किया है।

रामनगरी में अयोध्याधाम जंक्शन का पुनर्विकास एक प्रमुख रेलवे परियोजना है। यह रेलवे स्टेशन भव्यता का पर्याय बन गया है। नया बना अयोध्याधाम स्टेशन आधुनिक सुविधाओं से लैस है।
यातायात समेत करीब एक लाख यात्रियों का भार उठाने में सक्षम इस स्टेशन के अंदर एयर फलो के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। चार एस्केलेटर और छह लिफ्ट भी इस अत्याधुनिक स्टेशन पर लगाए गए हैं।

एयरकंडीशन्ड लेटिंग रूम, रेस्ट हाउस आदि भी बनाये गये हैं। स्टेशन तक पहुंचने के लिए फोर लेन सड़क का भी निर्माण किया गया है। यहां बनाई गई दुकानों को इंडियन कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन को सौंप दिया गया है।

अयोध्या जंक्शन के पुनर्विकास का कार्य अक्टूबर 2018 से चल रहा है। पहले चरण को पूरा करने में 150 करोड़ से ज्यादा खर्च हुए हैं। श्रद्धालुओं के लिए स्टेशन पर पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी हैं। परिसर में प्राथमिक चिकित्सा से लेकर बाल देखभाल केंद्र तक की सुविधाएं उपलब्ध हैं।

वर्तमान में देश का सबसे बड़ा कॉनकोर्स बनाया जा रहा है। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि रामनगरी की गरिमा को देखते हुए स्टेशन को मंदिर का स्वरूप दिया जा रहा है और आधुनिक सुविधाएं मुहैया करायी जा रही हैं।

रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक की लंबाई भी बढ़ाई जाएगी। पहले चरण में मुख्य भवन, 24 स्टाफ क्वार्टर, 500 वाहनों की क्षमता वाली पार्किंग, आंतरिक सड़कें और एक सब स्टेशन का निर्माण किया गया है।

लखनऊ स्थित फर्म म्यूरलएज के आर्किटेक्ट नमित अग्रवाल ने अयोध्याधाम जंक्शन का नक्शा बनाया है। वर्ष 2017 में RITES ने मानचित्र बनाने के लिए संस्था का चयन किया।

इसे बनाने में लगभग छह महीने का समय लगा। इमारत के डिजाइन को प्रधानमंत्री कार्यालय से मंजूरी भी मिल चुकी है। इसका पुनर्विकास तीन चरणों में पूरा किया जा रहा है। पहला चरण करीब दस एकड़ में पूरा हो चुका है।