एसडीओ ने वरिष्ठ स्तर पर पत्राचार किया, मिली चेतावनी


स्टोरी हाइलाइट्स

जल संसाधन उपसंभाग हंडिया जिला हरदा के तत्कालीन अनुविभागीय अधिकारी अंजुल कुमार दोहरे को हंडिया शाखा नहर लाईनिंग का कार्य ठेकेदार से गुणवत्तापूर्ण नहीं कराये जाने एवं नियम विरूद्ध वरिष्ठ अधिकारियों/कार्यालय से पत्राचार करने हेतु कारण बताओ नोटिस 27 जून 2017 को जारी किया गया था।

भोपाल।राज्य के जल संसाधन विभाग के एक एसडीओ को वरिष्ठ स्तर पर पत्राचार किया जिस पर उन्हें चेतावनी दी गई है कि भविष्य में वे सचेत रहें।

दरअसल गुरदिया वितरण जल संसाधन उपसंभाग हंडिया जिला हरदा के तत्कालीन अनुविभागीय अधिकारी अंजुल कुमार दोहरे को हंडिया शाखा नहर लाईनिंग का कार्य ठेकेदार से नहीं कराये जाने एवं नियम विरूद्ध वरिष्ठ अधिकारियों/कार्यालय से पत्राचार करने हेतु कारण बताओ नोटिस 27 जून 2017 को जारी किया गया था।

अंजुल कुमार दोहरे द्वारा उक्त कारण बताओ सूचना पत्र का उत्तर उनके पत्र 5 अक्टूबर 2021 से ईएनसी भोपाल को भेजा गया, जिसमें बचाव उत्तर मुख्य अभियन्ता जल संसाधन विभाग होशंगाबाद भेजा जाना अवगत कराते हुए लेख किया कि उनके द्वारा ठेकेदार को निरन्तर निर्धारित स्पेशिफिकेशन के अनुरूप लाईनिंग के कार्य करने हेतु निर्देशित किया। ठेकेदार द्वारा उनके निर्देश नहीं मानने पर कार्यपालन यंत्री के संज्ञान में उक्त तथ्य लाया गया एवं इसके उपरान्त वरिष्ठ स्तर पर पत्राचार किया। इस प्रकारण उनके द्वारा परिस्थितिवश किया गया आचरण नियमों के अनुरूप बताते हुए प्रकरण समाप्त किये जाने का निवेदन किया गया।

अंजुल कुमार दोहरे से प्राप्त उत्तर का ईएनसी ने समग्र परीक्षणोपरान्त पाया कि निरन्तर निर्देश उपरान्त ठेकेदार द्वारा निर्धारित स्पेशिफिकेशन के अनुरूप कार्य नहीं करने पर दोहरे द्वारा उक्त तथ्य को कार्यपालन यंत्री के संज्ञान में लाया गया। इसके पश्चात ही वरिष्ठ स्तर पर पत्राचार किया गया। इससे स्पष्ट है कि अनुविभागीय अधिकारी, कार्यपालन यंत्री एवं ठेकेदार में आपसी सामांजस्य की कमी के कारण यह स्थिति निर्मित हुई। इसलिये अब दोहरे को भविष्य में आपसी सामांजस्य स्थापित कर शासन हित में कार्य पूर्ण कराये जाने की हिदायत दिया जाकर उनके विरूद्ध प्रचलित अनुशासनिक प्रकरण को समाप्त किये जाने का प्रशासनिक निर्णय लिया गया है। दोहरे के विरूद्ध प्रचलित अनुशासनिक प्रकरण भविष्य के लिये सचेत करते हुए समाप्त कर दिया गया है।