नागपुर RSS हेड क्वार्टर की रेकी करने वाला आतंकी गिरफ्तार, जानिए क्या था गेम प्लान


स्टोरी हाइलाइट्स

आतंकियों के निशाने पर जम्मू कश्मीर, पंजाब जैसे सीमावर्ती राज्य तो हैं ही, देश के प्रमुख राजनैतिक, संगठनों के शीर्ष पदाधिकारी पर भी इनकी नजर है. ऐसा ही एक मामला तब सामने आया जब एक संदिग्ध आतंकी को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया गया। बताया जा रहा है कि यह आतंकी नागपुर में कई दिनों तक रहा और यहां आरएसएस मुख्यालय की रेकी करता रहा.


नई दिल्ली. देश में आतंकी गतिविधियां एक बार फिर तेज होते दिख रहीं हैं. आतंकियों के निशाने पर जम्मू कश्मीर, पंजाब जैसे सीमावर्ती राज्य तो हैं ही, देश के प्रमुख राजनैतिक, संगठनों के शीर्ष पदाधिकारी पर भी इनकी नजर है. ऐसा ही एक मामला तब सामने आया जब एक संदिग्ध आतंकी को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया गया। बताया जा रहा है कि यह आतंकी नागपुर में कई दिनों तक रहा और यहां आरएसएस मुख्यालय की रेकी करता रहा.

नागपुर स्थित संघ मुख्यालय की रेकी करने वाले इस संदिग्ध आतंकी को नागपुर की एटीएस टीम ने गिरफ्तार किया है। जम्मू-कश्मीर से इसकी गिरफ्तारी की गई. पकड़े गए आतंकी की पहचान रईस अहमद असदुल्ला शेख के रूप में की गई है। पुलिस की जांच में यह तथ्य सामने आया है कि रईस आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सदस्य है और अपने संगठन के लिए ही यह काम कर रहा था। सूत्रों के मुताबिक आतंकी रईस ने पुलिस के समक्ष यह स्वीकार भी किया कि उसने RSS मुख्यालय में रेकी की थी। पाकिस्तान में जैश के अपने आका के इशारे पर उसने आरएसएस नेताओं की गतिविधियां देखीं—परखीं थीं.

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने रईस को एक अन्य मामले में जनवरी में भी गिरफ्तार किया था। अब नागपुर एटीएस ने रईस को हिरासत में लिया है और जल्द ही उसे नागपुर लाया जाएगा। जानकारी के अनुसार रईस पिछले साल जुलाई में नागपुर आया था। यहां उसने हेडगेवार स्मृति भवन कैंपस सहित महत्वपूर्ण स्थानों की रेकी की थी। जानकारी मिलने के बाद नागपुर पुलिस ने संघ मुख्यालय की सुरक्षा व्यवस्था और कड़ी कर दी थी। पुलिस ने हेडगेवार मेमोरियल बिल्डिंग क्षेत्र में ड्रोन पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया था।

निशाने पर है आरएसएस 
कई सालों से आरएसएस आतंकियों के निशाने पर है. आरएसएस प्रमख मोहन भागवत भी आतंकियों के टारगेट बने हुए हैं. अक्टूबर 2020 में आरएसएस नेताओं पर आतंकी हमले की साजिश की बात सामने आई थी। उनपर हमले के लिए आईईडी या विस्फोटकों से लदी गाड़ी का इस्तेमाल करने की कोशिश की बात भी कही गई थी। इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) दिल्ली ने उस दौरान बताया था कि महाराष्ट्र के साथ ही पंजाब,राजस्थान और पूर्वोत्तर राज्यों के नेताओं को टारगेट किया गया था। 2006 में तो आरएसएस मुख्यालय पर आतंकी हमला भी हुआ था. जून 2006 की सुबह लगभग 4 बजे आरएसएस मुख्यालय पर हुए इस आतंकी हमले में मुठभेड़ में पुलिस ने कार में सवार तीन आतंकियों को मार दिया था।