Aim बड़ा हो तो कोशिश भी बड़ी करनी होगी..


स्टोरी हाइलाइट्स

हर कोई का एक सपना है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस सपने को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं, चाहे वह मानवता को बचाने के लिए हो..

Aim बड़ा हो तो कोशिश भी बड़ी करनी होगी..
धैर्य और परिश्रम से हासिल होंगे.. Aim

हर कोई का एक सपना है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस सपने को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं, चाहे वह मानवता को बचाने के लिए हो, दुनिया की भूख को खत्म करने के लिए, गरीबी को दूर करने के लिए, या केवल पदोन्नति पाने के लिए या एक बेहतर कार बदलने के लिए हो, सच्चाई यह है कि आपके सपने मायने रखते हैं।


अगर कोई Aim हासिल करने लायक है तो वह धैर्य, Endurance और लगन Devotion  के साथ मेहनत करने लायक भी है। कई लोग ऐसे Aim तय करते हैं, जो उनकी क्षमता से ज्यादा होते हैं। ये कुछ समय तक मेहनत करते हैं फिर छोड़ देते हैं। सही तरीके से मेहनत करते रहेंगे तो अपने Aim तक जरूर पहुंचेंगे। बड़े Aim हासिल करने के लिए बड़ी कोशिशें जरूरी हैं। कई बार तो हफ्तों, महीनों और बरसों की कड़ी मेहनत और तैयारी की जरूरत होती है। (हाउ टू सेट एंड अवीव वॉर गोल्स).

ये भी पढ़ें.. सक्सेस के लिए रेगुलर एफर्ट जरूरी



लोगों के प्रति इसलिए कद्र दिखानी चाहिए:


कद्र जताने से न केवल आपसी संबंध सुधरते हैं बल्कि आपसी सहयोग बढ़ता है। सभी के साथ आपके दोस्ताना संबंध होने चाहिए, तालमेल होना चाहिए। इसका एक तरीका लोगों के प्रति कद्र दिखाना है। कई बिजनेस एग्जेक्यूटिव्स सोचते हैं कि वेतन बढ़ाना या बोनस देना प्रशंसा का पर्याप्त सूचक है। कर्मचारी आर्थिक पुरस्कारों की अपेक्षा रखते हैं पर सामने खड़े होकर प्रशंसा करना अलग असर करता है। (वैल्यूइंग पीपल).


आपकी समझ मुश्किल लोगों को बदल सकती है:


कुछ लोग मुश्किल होते हैं। जब ऐसे किसी व्यक्ति से पाला पड़े तो क्या करेंगे? बुराई के बदले भलाई की कोशिश की जा सकती है। इससे एक कवच बन जाता है, जिसमे उनका आप पर प्रभाव नहीं पड़ता। आपकी समझ उन्हें बदल सकती है। नकारात्मक 'लोगों के साथ व्यवहार करते समय उनके तकों को मान्यता दें, नकारात्मक सोच वाले लोगों को यह अंदाजा नहीं होता है कि उनका व्यवहार दूसरों के लिए हानिकारक हो सकता है। (हाउ टू चाइय अराउंड नेगेटिव पीपल).


जहां जिम्मेदारी होती है वहीं विकास होता है:


जो जिम्मेदार नहीं होते थे जीवन में कभी अपनी सच्ची शक्ति को विकसित नहीं कर पाते। वे स्वतंत्रता, आत्मनिर्भरता, साहस विकसित नहीं कर पाते। ऐसी शक्तियां बरसों के व्यावहारिक प्रशिक्षण से ही विकसित होती हैं। जैसे- सृजन करने की शक्ति, तालमेल बनाने की शक्ति, आपातकालीन स्थितियों से निबटने की शक्ति या Aim के अनुरूप साधनों का संतुलन स्थापित करने की शक्ति (द रोड टू कैरेक्टर).

मार्क जुकरबर्ग ने 19 साल की उम्र में फेसबुक की स्थापना की, अरबपति बने, और बाकी इतिहास है। मैथ्यू मुलेनवेग CNET नेटवर्क के लिए काम करते थे। 2005 में, उन्होंने वर्डप्रेस की स्थापना की, एक सामग्री प्रबंधन प्रणाली जिसका उपयोग 60 मिलियन से अधिक वेबसाइटों द्वारा किया जाता है।

MyYearBook.com की क्रिएटर कैथरीन कुक ने 15 साल की उम्र में वेबसाइट शुरू की थी। याहू के स्वामित्व वाली प्रसिद्ध ब्लॉगिंग वेबसाइट टम्बलर की स्थापना डेविड कार्प ने 21 वर्ष की आयु के बाद की थी। वही रयान ब्लॉक के लिए जाता है, उस व्यक्ति ने 26 साल की उम्र में Engadget शुरू किया था।


News Puran Desk

News Puran Desk