खेती किसानी- मूंग की अंतर फसल के फायदे...


स्टोरी हाइलाइट्स

एक और गहरी जुताई और घातक कृषि रसायनों के कारण ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन होता है वहीं इस घाटे वाली खेती के कारण अनेक किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

 

भारत में मूंग एक बहुप्रचलित एवं लोकप्रिय दालों में से एक है। मूंग गर्मी और खरीफ दोनों मौसम की कम समय में पकने वाली एक मुख्य दलहनी फसल है | जैसा की हमारा पर्यावरण दिनो दिन खराब होता जा रहा है। गम्राति धरती बदलते मौसम की समस्या आजकल एक प्रमुख समस्या के रूप में हमारे सामने है जिसका सीधा संबंध हमारी खेती किसानी से है जो हमारा मुख्य आधार है।

एक और गहरी जुताई और घातक कृषि रसायनों के कारण ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन होता है वहीं इस घाटे वाली खेती के कारण अनेक किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

मूंग दाल की फसल:- हमारे पर्यावरण को बचाने के लिये हमें बिना जुताई की खेती के महत्व को समझना होगा। आज यही एक मात्र ऐसा उपाय है जिस पर अमेरिका जैसे सम्पन्न देश ने सबसे अधिक ध्यान दिया है और जिसके उत्साहवर्धक परिणाम प्राप्त हुए हैं । वे इसे नो-कंजरवेटिव फार्मिंग कहते हैं।

मूंग की फसल दलहनी फसल होने के कारण भूमि की उर्वरक क्षमता की भी वृद्धि करती है। क्योंकि इसकी जड़ों में ग्रन्थियां पाई जाती हैं और ये ग्रन्थियों वातावरण से नाइट्रोजन को मृदा में संस्थापन करने वाला सूक्ष्म जीवाणु पाए जाते है। इस नाइट्रोजन का प्रयोग मूंग के बाद बोई जाने वाली अन्य फसल द्वारा उपयोग में किया जाता है।

मूंग की जड़ें जिनमे ryzobium रहते है जो कुदरती यूरिया बनाते हैं। वे इसमे असानी से अंतरुफसल (इन्टरक्राप) के रुप मे मूंग की फसल ले सकते है। इसमे गर्मी की मूंग के बीजों को खड़ी गेंहूं फसल में छिड़क दे और जब वह उग आये तो आराम से उगती मूगं के उपर से हंसिये से गेहूं कटाई कर लेंवे। इससे उगती मूंग के नन्हे पौधों पर पांव पड़ने से कोई नुकसान नहीं होता है। इससे अनेक फायदे हैं।

प्रथम मूंग सबसे अधिक आर्थिक लाभ देती है। गेहूं की नरवाई जलने से बच जाती है वह सड़कर अगली फसल के जैविक खाद का इन्तजाम कर देती है। मूंग दलहन होने के कारण खेतों को कुदरती यूरिया प्रदान करती है। जोताई, खाद और विषैली दवा का उपयोग नहीं करने से एक ओर जहां कार्बन का उत्सर्जन रुकता है वहां कुदरती मूंग की फसल मिलती है जिसकी बाजार में रासायनिक मूंग की तुलना में आठ गुना कीमत है। इसे कहते हैं “हर्रा लगे न फिटकरी और रंगचोखा होय!"

 

पुराण डेस्क

पुराण डेस्क