EDITORMay 3, 20213min230

नीट-पीजी परीक्षा 4 माह टली,कोरोना  ड्यूटी के 100 दिन पूरे करने वाले रेगुलर होंगे: PM

प्राइम मिनिस्टर  ने कोरोना  से लड़ने चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता बढ़ाने के लिए फैसलों का अनुमोदन किया      

नीट-पीजी परीक्षा को कम से कम 4 माह टालने का निर्णय

कोविड ड्यूटी के 100 दिन पूरे करने वाले चिकित्सा कर्मियों को आगामी रेगुलर सरकारी भर्तियों में प्राथमिकता दी जाएगी

मेडिकल इंटर्न को अपने संकाय की देख-रेख मेंकोरोना  प्रबंधन ड्यूटी में लगाया जाएगा

एमबीबीएस के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों का उपयोग संकाय की देख-रेख में हल्के लक्षण वाले कोरोना  मरीजों के टेली-परामर्श और निगरानी में किया जा सकता है

बीएससी/जीएनएम योग्य नर्सों का उपयोग सीनियर  डॉक्टरों और नर्सों की देख-रेख में पूर्णकालिककोरोना  नर्सिंग ड्यूटी में किया जाएगा

कोविड ड्यूटी के 100 दिन पूरे करने वाले चिकित्सा कर्मियों को ‘प्राइममिनिस्टर  का प्रतिष्ठितकोरोना  राष्ट्रीय सेवा सम्मान’ दिया जाएगा

प्राइममिनिस्टर  श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज देश में कोरोना  महामारी से निपटने के लिए पर्याप्त मानव संसाधनों की बढ़ती आवश्यकता की समीक्षा की। कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए, जिससेकोरोना  ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता काफी हद तक बढ़ जाएगी।

 नीट-पीजी परीक्षा को कम से कम 4 माह टालने का निर्णय लिया गया और यह परीक्षा 31 अगस्त 2021 से पहले आयोजित नहीं की जाएगी। इसके अलावा, परीक्षा की घोषणा के बाद इसके आयोजन से पहले छात्रों को कम से कम एक माह का समय दिया जाएगा। इससे बड़ी संख्या में योग्य डॉक्टरकोरोना  ड्यूटी करने के लिए उपलब्‍ध हो जाएंगे।

General medicine-Newspuran

इंटर्नशिप रोटेशन के हिस्से के रूप में मेडिकल इंटर्न को अपने संकाय की देख-रेख मेंकोरोना  प्रबंधन ड्यूटी में लगाने की अनुमति देने का भी निर्णय लिया गयाएमबीबीएस के अंतिम वर्ष के छात्रों की सेवाओं का उपयोग संकाय द्वारा उनका उचित उन्मुखीकरण करने के बाद और उनकी देखरेख मेंकोरोना  के हल्‍के लक्षणों वाले मरीजों के टेली-परामर्श और निगरानी जैसी सेवाएं प्रदान करने में किया जा सकता है। इससेकोरोना  ड्यूटी में लगे मौजूदा डॉक्टरों पर काम का बोझ कम होगा और इसके साथ ही प्राथमिकता देने के प्रयासों को काफी बढ़ावा मिलेगा।

रेजिडेंट के रूप में अंतिम वर्ष के पीजी छात्रों ((विस्तृत के साथ-साथ सुपर-स्पेशलिटी) की सेवाओं का उपयोग आगे भी तब तक किया जा सकता है जब तक कि पीजी छात्रों के नए बैच शामिल नहीं हो जाएंगे।

बीएससी/जीएनएम योग्य नर्सों का उपयोग सीनियर डॉक्टरों और नर्सों की देख-रेख में पूर्णकालिक कोरोना  नर्सिंग ड्यूटी में किया जा सकता है।

General medicine-Newspuran-Newspuran

कोरोना  प्रबंधन में सेवाएं प्रदान करने वाले कर्मियों को कोरोना  ड्यूटी के न्यूनतम 100 दिन पूरे कर लेने पर आगामी रेगुलर सरकारी भर्तियों में प्राथमिकता दी जाएगी।

कोरोना  संबंधी काम में लगाए जाने वाले मेडिकल छात्रों/प्रोफेशनलों को उपयुक्त रूप से टीका लगाया जाएगा। इस प्रकार कार्यरत होने वाले सभी स्वास्थ्य प्रोफेशनलों को ‘कोरोना  से लड़ने में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों के लिए सरकार की बीमा योजना’ के तहत कवर किया जाएगा।

 ऐसे सभी प्रोफेशनल, जो कोरोना  ड्यूटी के न्यूनतम 100 दिनों के लिए हामी भरते हैं और इसे सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं, उन्हें भारत सरकार की ओर से ‘प्राइम मिनिस्टर  का प्रतिष्ठित कोरोना  राष्ट्रीय सेवा सम्मान’ भी दिया जाएगा।

 डॉक्टर, नर्स एवं संबद्ध प्रोफेशनल कोरोना  प्रबंधन की रीढ़ हैं और इसके साथ ही अग्रिम पंक्ति के कर्मी भी हैं। पर्याप्त संख्या में उनकी उपस्थिति मरीजों की आवश्यकताओं को अच्छी तरह से पूरा करने के लिए ज़रूरी  है। इस दौरान चिकित्सा समुदाय के उल्लेखनीय योगदान और गहरी प्रतिबद्धता को रेखांकित किया गया।

PM authorises keys decisions to boost availability of medical personnel to fight COVID-19

 केंद्र सरकार ने कोरोना  ड्यूटी के लिए डॉक्टरों/नर्सों की सहभागिता को सुविधाजनक बनाने के लिए 16 जून 2020 को दिशा-निर्देश जारी किए थे। केंद्र सरकार ने कोरोना  प्रबंधन के लिए  सुविधाओं और मानव संसाधनों को बढ़ाने के लिए 15,000 करोड़ रुपये की विशेष सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल सहायता प्रदान की थी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के माध्यम से कर्मियों को शामिल करते हुए इस प्रक्रिया के जरिए अतिरिक्त 2206 विशेषज्ञों, 4685 चिकित्सा अधिकारियों और 25,593 स्टाफ नर्सों की भर्ती की गई।

NEET-PG Exam to be postpone for at least 4 months

Medical personnel completing 100 days of Covid duties will be given priority in forthcoming regular Government recruitments

Medical Interns to be deployed in Covid Management duties under the supervision of their faculty

Final Year MBBS students can be utilized for tele-consultation and monitoring of mild Covid cases under supervision of Faculty

B.Sc./GNM Qualified Nurses to be utilized in full-time Covid nursing duties under the supervision of Senior Doctors and Nurses.

Medical personnel completing 100 days of Covid duties will be given Prime Minister’s Distinguished Covid National Service Samman

 


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ