इन 10 देशों में भी बापू का सम्मान, भारत के अलावा 10 देशों में गांधीजी कहाँ कहाँ मूर्तियाँ हैं..


स्टोरी हाइलाइट्स

पूरी दुनिया में लोग गांधी जी को शांति का प्रतीक मानते हैं। भारत में आपने गांधी जी की कई मूर्तियां और स्मारक देखे होंगे, लेकिन दुनिया में भी...

भारत के अलावा इन 10 देशों में भी की बापू का सम्मान, बापू को श्रद्धा से किया जाता है याद.. पूरी दुनिया में लोग गांधी जी को शांति का प्रतीक मानते हैं। भारत में आपने गांधी जी की कई मूर्तियां और स्मारक देखे होंगे, लेकिन दुनिया में भी गांधी जी के कई स्मारक हैं। सृष्टि के अंत तक लोग उन्हें शांति, मानवता और अहिंसा के प्रतीक के रूप में सम्मान देते रहेंगे। तो आइए आज हम आपको बताते हैं कि भारत के अलावा 10 देशों में गांधीजी कहाँ कहाँ मूर्तियाँ हैं|  1) ट्विस्टक, लंदन: इस प्रतिमा का निर्माण मूर्तिकार फ्रेडा ब्रिलियंट ने किया था और इसका उद्घाटन 1968 में पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री हेरोल्ड विल्स ने किया था। यह प्रतिमा अपनी भव्यता के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। ये भी पढ़ें.. सफलता पाने के लिए अपनी सोच को हमेशा पॉजिटिव रखें….भगीरथ पुरोहित  2) कोपेनहेगन, डेनमार्क: भारत की पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने 1984 में डेनमार्क की अपनी यात्रा के दौरान इस प्रतिमा को डेनमार्क सरकार को समर्पित किया था। 3) लेक श्राइन, कैलिफोर्निया, यूएसए: यहां गांधी को समर्पित एक विश्व स्मारक है। स्मारक 1950 में बनाया गया था। यहां एक हजार साल पुराना चीनी सिरोफैगस रखा गया है, जिसमें महात्मा गांधी की थोड़ी सी राख को पीतल और चांदी के एक छोटे से डिब्बे में रखा जाता है। 4) चर्च स्ट्रीट, पीटरमैरिट्सबर्ग, दक्षिण अफ्रीका: यह वह शहर है जहां महात्मा गांधी को एक बार 1893 में एक अंग्रेज ने ट्रेन से फेंक दिया था। इस घटना को गांधी के हृदय परिवर्तन का प्रतीक माना जाता है। यहीं पर दक्षिण अफ्रीका के आर्कबिशप डेसमंड टूटू ने महात्मा गांधी की भव्य प्रतिमा का उद्घाटन किया था। 5) प्लाजा, अर्जेंटीना:  राम वनजी सुतार द्वारा बनाई गई गांधी की मूर्ति भारत सरकार द्वारा अर्जेंटीना को उपहार में दी गई थी। 6) ग्लैब पार्क, कैनबरा, ऑस्ट्रेलिया: यहां गांधीजी की कांस्य प्रतिमा स्थापित की गई है। माना जाता है कि मूर्ति इतनी जीवंत है कि यह उनके मार्गदर्शक सिद्धांतों की पहचान करती है। इन प्रतिमाओं का संदेश यह है कि सिद्धांतों के बिना कोई राजनीति नहीं कर सकता, नैतिकता के बिना कोई व्यपार नहीं है और मानवता के बिना कोई विज्ञान नहीं है। 7) मेमोरियल गार्डन, गिंगा: युगांडा १९४८ में, महात्मा गांधी की चिता भस्म का एक छोटा सा हिस्सा गिंगा, युगांडा में नील नदी में विसर्जित किया गया था। तब इस स्थान पर एक स्मारक बनाया गया था। 8) ऑस्ट्रिया के विएना पीस गार्डन: ऑस्ट्रिया के विएना पीस गार्डन में कलाकार वर्नर होर्वाथ ने महात्मा गांधी के शांति और अहिंसा में योगदान को दिखाने के लिए गांधीजी को चित्रित किया है। 9) एरियाना पार्क, जिनेवा, स्विटजरलैंड: भारत सरकार ने भारत और स्विटजरलैंड के बीच 1948 की संधि की 60 वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में एक गांधी प्रतिमा का निर्माण किया। प्रतिमा पर फ्रेंच में एक संदेश के साथ एक पंक्ति उकेरी गयी है,  10) पार्लियामेंट स्क्वायर, लंदन, इंग्लैंड: महात्मा गांधी की प्रतिमा 14 मार्च 2015 को लंदन में बनाई गई थी। मूर्ति कलाकार फिलिप जैक्सन द्वारा बनाई गई थी। उद्घाटन में तत्कालीन ब्रिटिश प्रधान मंत्री डेविड कैमरन, केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली, महात्मा गांधी के पोते और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी और भारतीय अभिनेता अमिताभ बच्चन ने भाग लिया था।
News Puran Desk

News Puran Desk