Latest

हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई, नामों में हैं भाई-भाई

सूरज और आफताब एक ही हैं

विश्व भर में अनेक धर्मो के लोग रहते हैं। उनके बीच के बीच अनेक तरह की टकराहटें हैं, मतभेद हैं और उनके बीच लगातार तनातनी चलती रहती है।  सबके अपने-अपने रीति-रिवाज हैं, भाषाएँ हैं, परम्पराएँ हैं, मान्यताएं, विश्वास और खानपान हैं। इनमें बहुत विविधता और भिन्नता देखने को मिलती है लेकिन इस सब के बावजूद एक बात जो सामने आती है, वह यह है कि सभी धर्मों के अनुयायी अपने बच्चों के अच्छे नाम रखने में लगभग एक ही सोच रखते हैं। विवेक-दानिश, सूरज-आफताब, अमर-जावेद, गौरव-इफ़्तेख़ार नामों के एक ही मतलब हैं।

बेटियों के नामों में भी यही देखने को मिलता हैं। हिन्‍दू अपनी बेटी का नाम कुमुद रखता है तो मुस्लिम  नीलोफर, हिन्‍दू प्रज्ञा रखता है तो मुस्लिम ज़हानत रखता है। इसी तरह हिन्‍दू अपनी बेटियों के नाम देवियों और नदियों पर अधिकतर रखते रहे हैं।

मुस्लिम बेटियों के नाम भी बहुत पवित्र और अच्छा भाव लिए होते हैं. फातिमा आयशा बी बहुत लड़कियों के नाम रखे जाते हैं. आदीवा का मतलब है सुखद या कोकम, ताहिरा यानी पतिव्त्र, ऐडा यानी सुन्दरता, हूर यानी स्वर्ग की सुंदरी, हियाँ यानि मोहब्बत, हिला यानी आशा या चांदनी, हिब्बा यानी अल्लाह से मिला उपहार, हजीरा यानी समझदर, बाविदा यानी पूजा करने वाली, हमीदा यानी सराहनीय, हफ्रह यानी नबी इब्राहीम की पत्नी, फौजिया यानी विजया, फरहाना यानी राजकुमारी. इसी तरह ईसाई, सिख, जैन और बौद्ध धर्मो में भी बच्‍चों के नामकरण के पीछे यही सोच सामने आती हैं।

ईसाइयों के नामों को ही लें। अलबर्ट, अलेग्जेंडर, एलेक्सिस, एम्ब्रोस, एंथोनी, अर्नाल्ड, आगस्तीन, बेनेडिक्ट, बेंजामिन, चार्ल्स, क्रिस्टोफर, डेविड, डोनाल्ड, एडविन आदि नाम ईसाई संतों के ही हैं। इनके और भी जो अर्थ निकलते हैं वे सद्गुणों के सूचक हैं।

सिखों में आमतौर पर यह माना जाता है कि यह एक योद्धा कौम है और इनके नामों में सिंह अवश्य लगता है. लेकिन यह भी सही है कि सिखों के बड़ी संख्या में नाम बहुत अच्छे सन्देश देते हैं. मसलन अमनजोट, यानी ईश्वर की ज्योति,अमंवीर, यानिशांति के लिए लड़ने वाला, अमन्जीव यानी शांति को प्राप्त करने वाला, अमनप्रीत यानी शांतिप्रिय, अमनजोत यानी अमर प्रकाश. सिखों में बहुत से नाम अपने गुरुओं पर रखे जाते हैं. जैनियों में भी अधिकतर नाम मन की शुद्धता को प्रमुखता देने वाले होते हैं. जैन धर्म में चित्त के मालों को दूर करने पर सबसे अधिक प्रमुखता दी गयी है. इसीलिए इनके नामों में विमल, निर्मल आदि बहुत मिलते हैं।

इस प्रकार हम देखते हैं कि कोई भी धर्म हो, उसमें अपने बच्चों के नाम ऐसे रखे जाते हैं, जो अच्छाई का प्रतीक हैं. हालाकि आज कुछ अप्रचलित,अपारंपरिक और कठिन नाम रखे जाने लगे हैं, लेकिन उनके अर्थ के भीतर भी देखा जाये तो यही प्रवृति सामने आती है।


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



नवीनतम पोस्ट



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ