जिन्हें फिल्मों में अच्छे मौके नहीं मिले वो कर रहे हैं वेब सीरीज में काम और हो रहे हैं हिट 

जिन्हें फिल्मों में अच्छे मौके नहीं मिले वो कर रहे हैं वेब सीरीज में काम और हो रहे हैं हिट 

दुनिया में मनोरंजन के तरीके समय के अनुसार बदलते आयें हैं| आज भी इसमें दिन प्रतिदिन बदलाव आते देखा जा रहा है| जी हाँ आज के इस दोर में अभी कुछ नए आयाम आये हैं मनोरंजन के लिए इन्ही में से है एक वेब सीरीज| 

वेब शोज ने उन प्रतिभाओं के लिए संभावनाओं के द्वार खोल दिए हैं, जिन्हें फिल्मों में काम करने का कम मौके मिलते थे। वेब सीरीज में काम करने वाले कलाकारों ने भी लोकप्रियता कायम कर ली है। जैसे जब ‘पाताललोक’ आई  तो जयदीप अहलावत की चर्चा चारों ओर होने लगी। वो जयदीप, जो 2012 से मेहनत कर रहे थे। विलेन के रूप में उन्हें काफी मौके मिले, मगर उनकी असल क्षमता ‘पाताललोक’ में उभर कर सामने आई।

वैसे ही आप बाकी की  वेब सीरीज में और भी बहुत से कलाकारों को देखेंगे। वहां उन जैसे ढेर सारे एक्टर्स को मौका मिला है। जैसे ‘अ सुटेबल बॉय’ में 100 से ज्यादा किरदार हैं। लिहाजा एक तो बहुत सारे कलाकारों को काम मिल रहा है, दूसरा प्रतिभावान कलाकारों को उनका श्रेय मिल रहा है। 

देखा गया है कि फिल्मों में स्लॉटिंग बहुत होती है कि ये कलाकार तो एक खास तरह के रोल ही निभा सकते हैं। इस दकियानूसी विचार को वेब सीरीज ने बदला है। कलाकार प्रतिभावान है तो बेहतर रोल मिलेंगे ही। प्रोमोशन भी जमकर होता है। ‘मिर्जापुर 2’ के दिव्येंदु शर्मा, अली फजल, पंकज त्रिपाठी को ही देख लें।

इन सबको कमर्शियल फिल्म के हीरो जैसा प्रोमोशन मिल रहा है। ऐसे कलाकारों को फिल्मों में कथित तौर पर बहुत बड़ा काम नहीं मिल रहा था। ओटीटी वालों ने अब इन्हें इतना काम दे दिया है कि इनके पास वक्त ही नहीं है। ‘अ सुटेबल बॉय’ में मेन लीड में दिल्ली की तान्या मानिकतला हैं।

उन्होंने इससे पहले एक ही वेब शो किया था। फिर सीधे बीबीसी की वेब सीरिज मिल गई। इनके अलावा विवेक गोम्बर, नमित दास भी हैं। ये सब वे एक्टर हैं, जिनके चेहरे याद रहे हैं, पर लोग नाम भूलते रहे हैं। पर अब वेब शोज ने इन सबको बदल दिया है।

जहां तक सवाल लोगों की दिलचस्पी ओटीटी तक सीमित रहने का है, तो वैसा नहीं होगा। सिनेमा पूरी तरह खुलने के बाद वहां भी लोग जाएंगे। हां, ओटीटी ने अपना नया इको सिस्टम जरूर बना लिया है। लोग 8-10 एपिसोड की सीरीज देखने के आदि हुए हैं। पर जब सिनेमाघरों में नई फिल्में आएंगी तो वहां भी ज्यादा तादाद में लोग फिल्में देखने आएंगे। ओटीटी ने फिल्म इंडस्ट्री को फिर से ऊर्जा से लैस किया है। ढेर सारे राइटर, एक्टर सब व्यस्त हैं।

हालांकि ओटीटी के सितारों को फिल्मों में अभी भी तथाकथित वैसे रोल नहीं मिल रहे, जिसके वे लायक हैं। उसकी वजह यह है कि फिल्में अब भी स्टार्स पर केन्द्रित हैं। अभी भी स्टार्स की परिभाषा का दायरा सीमित है। गिनती के 10-15 स्टार्स हैं। इन्हीं में बड़े बजट की फिल्में चलती रहती हैं। ताकि दर्शक सिनेमाघरों तक आएं।

ओटीटी में ऐसा दबाव नहीं है। वे स्टार केंद्रित नहीं हैं। वहां अच्छी कहानियां और किरदार मिलते रहें तो बेहतर कंटेंट बनता रहेगा। इन चैनल के अधिकारी भी कहते हैं कि हर तरह की पसंद रखने वाले दर्शकों को कुछ न कुछ मिलता रहेगा। ओटीटी पर हर मूड को केटर करने के लिए कहानियां हैं।

इसपर बॉक्स ऑफिस का प्रेशर भी नहीं है। यहां पूछा नहीं जाता कि स्टार कौन है। हालांकि ओटीटी को कई पॉपुलर चेहरे मिले हैं, मगर अभी वहां स्टार कल्चर नहीं आया है। सब चाहते हैं कि कोई पॉपुलर चेहरा हो प्रोजेक्ट में, मगर अभी तक ऐसा नहीं हुआ कि कहानी तोड़-मरोड़ लें ताकि‍ स्टार उसमें फिट हो जाए।

सिनेमाघरों के हिसाब से फिल्मों के इको सिस्‍टम में स्टार तो बेशक सबसे ऊंचे पायदान पर होता है। मगर वेब शो में स्टार नहीं, बल्कि पूरे शो का कर्ता-धर्ता ऊपर होता है। जैसे ‘सुटेबल बॉय’ में छह एपिसोड में पांच मीरा नायर ने डायरेक्ट किए हैं। ‘सेक्रेड गेम्स’ के पहले सीजन के शो रनर विक्रमादित्य मोटवानी थे। दूसरे सीजन के एपिसोड नीरज घेवन ने डायरेक्ट किए।

ओटीटी में बेहतर काम करने वालों की पूछ-परख  फिल्मों में भी हो रही है। जैसे सुना है ‘फैमिली मैन’ बनाने वाले राज एंड डीके शाहरुख के साथ कोई फिल्म करने वाले हैं। आप अच्छी कहानी बताते हैं तो आपकी ब्रैंड वैल्यू हर जगह बनती है।


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ