• India
  • Sun , Jul , 14 , 2024
  • Last Update 12:34:AM
  • 29℃ Bhopal, India

एक जरूरी प्रश्न और उत्तर दुनिया के लिए

राकेश दुबे राकेश दुबे
Updated Tue , 14 Jul

सार

हकीकत में जब आप अच्छे इंसान की भूमिका चुनते और निभाते हैं, तो अच्छाई खुद-ब-खुद झलकने लगती है।

janmat

विस्तार

मेरे पोते अविर्भाव ने हाल की वडोदरा यात्रा के दौरान मुझसे एक प्रश्न किया “कद और काबिलियत” में क्या बड़ा होता है ? बिलाबांग स्कूल के कक्षा ६ के छात्र का यह प्रश्न और उसका सटीक उत्तर आज के दौर में जरुरी है| मुझे एक किस्सा याद आ रहा है, जो सालों पुराना होते हुए आज की मानवीय सभ्यता के लिए एक जरूरी सबक है | किस्सा यूँ है :-एक फकीर किसी सुंदर स्थल पर पहुंचा। लोगों ने कहा, ‘यही स्वर्ग है।’ उसने पूछा, ‘तो सुकरात कहां है?’ काफी खोजबीन की, कहीं पता नहीं लगा। फकीर नरक की ओर चल पड़ा। वहां जा कर पूछताछ की तो लोगों ने बताया कि सुकरात यहीं कहीं है। एक व्यक्ति उसे सुकरात के पास ले गया। वे एक खेत में गड्ढा खोद रहे थे। फ़क़ीर ने सुकरात से सवाल किया, ‘आप जैसा अच्छा इंसान नरक में?’ सुकरात मुस्कुराए और बोले, ‘संसार में गलत व्याख्याएं प्रचलित हैं। तुम कहते हो कि अच्छा इंसान स्वर्ग में जाता है। हम कहते हैं कि अच्छा इंसान जहां जाता है, वहां स्वर्ग अपने आप चला आता है। और बुरा इंसान जहां जाता है, वहां नरक आता है।’ सुकरात ने आगे समझाया, ‘स्वर्ग कोई बना- बनाया स्थान नहीं है। स्वर्ग अच्छे इंसान का निर्माण ही है। अपने भीतर जब अच्छा निर्मित हो जाता है, तो बाहर अच्छा फैल जाता है। स्वर्ग अच्छे इंसान के निर्माण की छाया है, ख़ुशबू है। जबकि नरक भी कोई स्थान नहीं, वह बुरे इंसान की बुराई का बाहर तक छा जाना है।’

इसके बाद अब प्रश्न का उत्तर, शुरु होता है - कद और काबिलियत से बड़ी है इंसानियत? लोग बाग बचपन से ही उछलते हैं, लटकते हैं और जिम में न जाने कैसी-कैसी कसरतें करते हैं काठी सुडौल करने और कद बढ़ाने के लिए। कई किताबें रटते हैं, अव्वल नंबर लाते हैं। ऊंची काबिलियत हासिल करने में दिन-रात एक कर देते हैं। जबकि साइकेट्रिक और सोशियोलॉजिकल रिसर्च बताती रही हैं कि ऊंचा कद हमेशा कमाल नहीं दिखाता। भारत में एक प्रधानमंत्री शास्त्री जी इसकी मिसाल बने |हालांकि पुरुषों के ऊंचे कद से उनकी आमदनी और कारोबारी सम्भावनाएं जरूर बढ़ती हैं। अमेरिका में तो कद्दावर उम्मीदवार की राष्ट्रपति चुनाव जीतने की सम्भावना दुगुनी बढ़ जाती है। क्योंकि पुरुषों का ऊंचा कद प्रधानता, श्रेष्ठता, विशिष्टता, सुरक्षा, बेख़ौफ़, बलवान, नेतृत्व और सामाजिक शक्ति से जुड़ा है। बावजूद इसके कद और काबिलियत दोनों से कहीं ऊपर है इंसानियत। भ्रम तब टूटता है, जब कसरत और पढ़ाई लियाकत और इंसानियत से वंचित रखती है। बंगाल के विख्यात दार्शनिक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की राय में, ‘जो व्यक्ति दूसरों के काम न आए, वास्तव में वह इंसान ही नहीं है।’ दूसरों के कल्याण से बढ़ कर, दूसरा कोई नेक काम और धर्म नहीं होता। इसीलिए कहते हैं कि इंसान का सबसे बड़ा कर्म दूसरों की भलाई और सहयोग होना चाहिए। नागरिकों के यही गुण एक संपन्न राष्ट्र का निर्माण करते हैं।

हकीकत में जब आप अच्छे इंसान की भूमिका चुनते और निभाते हैं, तो अच्छाई खुद-ब-खुद झलकने लगती है। चूंकि हर डॉक्टर, हर इंजीनियर, हर विद्यार्थी, हर नेता, हर कारोबारी पहले एक इंसान है। अत: उसकी पहली अहमियत, पहला धर्म और पहला कर्तव्य काबिल इंसान बनना ही होनी चाहिए।

देश की पहली महिला आईपीएस अफसर रहीं किरण बेदी ने एक लेख में लिखा है १९७१ में, यूपीएससी के फ़ॉर्म भरते हुए उन्होंने धर्म कॉलम के सामने लिख दिया था- मानवता। मैं आज विश्व के माहौल को देखते हुए कह सकता हूँ कि मानवता या इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्म है।’ इसीलिए जब कभी किसी की प्रशंसा में दो शब्द कहे जाते हैं, तो उसके कद और काबिलियत से ऊपर अच्छा इंसान होने के गुण को भरपूर अहमियत दी जाती है।

हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के मनोवैज्ञानिक डेनियल गोलमैन के मुताबिक, आईक्यू टेस्ट में कम आंका गया इंसान भी आगे चल कर ईक्यू पैमाने के सहारे ऊंचाइयों को छूता है। बीते एक-डेढ़ दशक के दौरान ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के मनोवैज्ञानिकों ने एसक्यू यानी स्पिरिचुअल कोशंट के ज़रिए बुद्धिमत्ता आंकने की पहल की थी। इसके अंतर्गत जीवन के मूल्य और अर्थ को समझने की बुद्धिमत्ता का विकास किया जाता है। इससे संपन्न इंसान अपने कामकाज को बेहतर और अर्थपूर्ण बना सकता है। एसक्यू से परिपूर्ण इंसान आत्मिक और आध्यात्मिक तौर पर ज्यादा जागरूक होता है। इसकी बुनियाद हर इंसान के भीतर जन्म से ही होती है, जिसे संवार और समृद्ध बना सकते हैं। आंतरिक कौशल को संवार कर, नम्र, प्रेरक, जागरूक होकर, भावनाओं को जुबान दे कर, कला और कुदरत का प्रेमी बन कर, नेकी के रास्ते पर चल सकते हैं।सही भी है ,सुंदरता का संबंध आप के नैन-नक़्श और कद-काठी से नहीं है। आपके संस्कारों से जो झलकता है, उससे तय होता है।