ग्रीन टी को सेहतमंद बनाने के लिए इन आयुर्वेदिक चीजों को मिलाएं


स्टोरी हाइलाइट्स

Green tea is a very beneficial drink, but you can also make it healthy. To make green tea healthy you just have to add some Ayurvedic....

ग्रीन टी को सेहतमंद बनाने के लिए इन आयुर्वेदिक चीजों को मिलाएं.. ग्रीन टी बहुत ही फायदेमंद पेय है, लेकिन आप इसे सेहतमंद भी बना सकते हैं। ग्रीन टी को सेहतमंद बनाने के लिए आपको बस इसमें कुछ आयुर्वेदिक तत्व मिलाने होंगे। ग्रीन टी का उपयोग आमतौर पर कई स्वास्थ्य लाभों के लिए किया जाता है लेकिन ज्यादातर लोग इसका उपयोग वजन घटाने और शरीर के डिटॉक्सिंग के लिए करते हैं। यह ईजीसीजी में समृद्ध है जो एक एंटी-ऑक्सीडेंट है। यह बी विटामिन में समृद्ध है, जबकि यह विरोधी भड़काऊ गुणों से भी समृद्ध है जो चयापचय को बढ़ावा देता है। ग्रीन टी इम्यून सिस्टम को बढ़ाने में भी कारगर है। तो पता करें कि ग्रीन टी में किन चीजों को मिलाना ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।  नींबू- यदि आप ग्रीन टी मेंका रस मिलाते हैं, तो यह उसके स्वाद को बढ़ाता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर आप नींबू या खट्टे रस के साथ ग्रीन टी पीते हैं, तो यह इसके एंटी-ऑक्सीडेंट को बढ़ा देगा, जो शरीर के लिए अधिक फायदेमंद है। लेकिन गर्म हरी चाय में नींबू कभी न डालें। ग्रीन टी को ठंडा होने दें और फिर नींबू निचोड़ें।  शहद- शहद आपको स्वस्थ त्वचा देता है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत कर सकता है। इसीलिए चीनी के विकल्प के रूप में ग्रीन टी के साथ शहद का उपयोग किया जा सकता है। ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं और शहद विटामिन और खनिजों में समृद्ध होता है, जो पेय को सुपर स्वस्थ बना सकता है।  स्टीविया की पत्ती- स्टीविया के सेवन से कैलोरी कम होती है और ब्लड शुगर लेवल भी नियंत्रण में रहता है। इतना ही नहीं, यह वजन घटाने में भी फायदेमंद है। यह अच्छा कोलेस्ट्रॉल भी बनाता है। वास्तव में यह एक सुरक्षित और प्राकृतिक स्वीटनर है और कोई भी दुष्प्रभाव ग्रीन टी को मीठा बना सकता है।  पत्तियां और दालचीनी- पुदीने कीयदि आप अपनी हरी चाय में पुदीने की पत्तियां पीते हैं, तो यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है और पाचन में सुधार करता है। दालचीनी तो वजन घटाने में मदद करता है। यह आपकी प्रतिरक्षा को भी बढ़ाता है।  अदरक- अगर अदरक के साथ मिलाया जाए तोग्रीन टी के कई फायदे हैं। वास्तव में, अदरक को कैंसर को नियंत्रित करने के साथ-साथ प्रतिरक्षा को बढ़ाने में प्रभावी माना जाता है। यह अस्थमा, मधुमेह और मासिक धर्म की समस्याओं को हल करने में भी प्रभावी है। 
News Puran Desk

News Puran Desk