खुलासा: एसबीआई ने शून्य बैलेंस खाता धारकों से वसूले 300 करोड़ 

आईआईटी बॉम्बे ने अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया है कि पिछले पांच वर्षों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने जीरो बैलेंस खाता धारकों से 300 करोड़ रुपये वसूल किये है इस रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि SBI ने डिजिटल लेनदेन में RBI के नियमों का उल्लंघन किया।

एसबीआई सहित कई बैंकों ने शून्य बैलेंस यानी बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट्स के नाम पर सेवा शुल्क लगाया था। एसबीआई ने पिछले पांच वर्षों में 120 मिलियन जीरो बैलेंस खाते खोले और लगभग 300 करोड़ रुपये की वसूली की। आईआईटी बॉम्बे ने 2015 से 2020 तक के आंकड़ों का अध्ययन करने के बाद यह रिपोर्ट दी। एसबीआई ने 2018-19 में शून्य शेष बचत खातों से सबसे अधिक 158 करोड़ रुपये की वसूली की।

SBI-homeloan

पंजाब नेशनल बैंक ने पांच साल में बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट के तहत 3.9 करोड़ खाते खोले थे और इसके जरिए 9.9 करोड़ रुपये की वसूली की थी। डिजिटल लेनदेन पर RBI के नियमों का भी उल्लंघन किया गया।

आईआईटी बॉम्बे के एक प्रोफेसर आशीष दास ने कहा कि आरबीआई के नियमों के अनुसार, प्रत्येक बैंक शून्य राशि के साथ खाता खोलता है, लेकिन इन बैंकों ने अनुचित रूप से मूल्यवान सेवा के नाम पर ग्राहकों से शुल्क लिया। अध्ययन में कहा गया है कि लेनदेन के अलावा, ऑनलाइन लेनदेन के लिए शुल्क लेना उचित नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ऑनलाइन लेनदेन में बैंक की सीधी सेवा शामिल नहीं है।

प्रोफेसर दास ने कहा कि बैंक ने विवेकपूर्ण तरीके से चार्ज को छोड़ दिया होता तो बेहतर होता। अध्ययन में आरबीआई के रुख की भी आलोचना की गई। उपभोक्ताओं ने आरबीआई से शिकायत की थी जब एसबीआई ने UPI या भीम-UPI के रूप में चार्ज करना शुरू किया था, लेकिन RBI ने बैंकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

 

 

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ