तालिबान के एक शीर्ष नेता का इन्टरव्यू लेने वाली पहली महिला पत्रकार ने भी छोडा अफगानिस्तान

तालिबान के बढ़ते आतंकवाद के बाद से लाखों लोग अफगानिस्तान से भाग गए हैं। इसमें वे लोग शामिल हैं जिन्होंने पिछले 20 वर्षों में पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी के बाद से संयुक्त राज्य अमेरिका की मदद की है, साथ ही साथ राजनीतिक नेता और महिलाएं भी शामिल हैं।

तालिबान चाहे कुछ भी कहे, अफगानिस्तान में जमीनी हालात अलग हैं। सत्ता हथियाने के बाद सबसे पहले तालिबान का इंटरव्यू लेने वाली महिला पत्रकार भी जान बचाने के लिए देश छोड़कर चली गई है।

Behasta Argad

अफगान चैनल की एक महिला पत्रकार बेहेष्टा अरगड ने इतिहास रच दिया और तालिबान के एक वरिष्ठ नेता का साक्षात्कार लेने वाली पहली महिला बनीं। इस इंटरव्यू की चर्चा पूरी दुनिया में हुई थी। 24 वर्षीय अरगड ने बाद में मलाला यूसुफजई का साक्षात्कार लिया। मलाला खुद 2015 में तालिबान के हमले में बमुश्किल बची थीं।

पता चला है कि बेहेष्टा अरगड़े भी देश छोड़ने में शामिल हैं।अर्गडे का कहना है कि वह देश लौटना चाहते हैं लेकिन पहले तालिबान द्वारा किए गए वादों को पूरा करते हैं और स्थिति में सुधार का इंतजार करते हैं। अगर उसे लगता है कि वह सुरक्षित है और कोई खतरा नहीं है, तो मैं देश लौट जाऊंगा।

“मैंने देश छोड़ दिया है क्योंकि मैं तालिबान से डरता हूं,” उन्होंने अमेरिकी चैनल को बताया। मैंने अफगान महिलाओं के लिए तालिबान नेता का साक्षात्कार लिया और मैंने खुद को समझाया कि किसी को शुरुआत करनी होगी। यानी तालिबान ने अपने वादे पूरे नहीं किए। तालिबान समाचार मीडिया को डरा रहे हैं और पत्रकारों को निशाना बना रहे हैं और इसलिए मैंने देश छोड़ दिया है।

Priyam Mishra



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ