क्या दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण फिर से हो सकता है? 10 सवाल जो आपके जहन में भी आते होंगे|

क्या दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण फिर से हो सकता है? 10 सवाल जो आपके जहन में भी आते होंगे|

covid19
 




कैम्ब्रिज, ब्रिटेन में एक अध्ययन में पाया गया कि कोरोना से संक्रमित 1300 में से 58 लोग पुन: संक्रमित हुए । क्या 
कोरोना ठीक होते ही यह फिर से हो सकता है? इसे लेकर कई शंकाएं हैं। यह आईसीएमआर और दुनिया के अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों द्वारा भी अध्ययन किया गया है। कोरोना की पहली लहर के दौरान संक्रमण का खतरा बहुत कम था। हालाँकि, इस लहर में बड़े खतरे से इंकार नहीं किया जा सकता है।

एक व्यक्ति में दूसरे कोरोना संक्रमण का खतरा क्या है? साथ ही, ऐसे कई सवालों के जवाब जानें जिनके लिए यह अधिक खतरनाक है।

प्रश्न: दोबारा कोरोना होने के जोखिम में कौन है?

ए: जिन लोगों की रेजिस्टेंस  प्रणाली कमजोर होती है उन्हें दोबारा संक्रमण का खतरा होता है। इन लोगों की रेजिस्टेंस  प्रणाली लंबे समय तक नहीं रहती  या उनका शरीर रेजिस्टेंस  का निर्माण नहीं कर सकता ।

प्रश्न: क्या पुन: संक्रमण के जोखिम पर कोई अध्ययन किया गया है?

उत्तर:जी हां यह अध्ययन कोरोना वायरस के बारे में कई तथ्यों पर आधारित है। द लांसेट में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में दोबारा संक्रमण का खतरा है।

प्रश्न: पुन: संक्रमण की संभावना क्या है?

उत्तर: जिन वरिष्ठ नागरिकों को थैलेसीमिया जैसी बीमारी है, वे अधिक जोखिम में हैं। कई अध्ययनों के बाद, संभावना 10 प्रतिशत पाई गई है।

प्रश्न: कैसे संक्रमण फिर से होता है?

A: वायरस के दूसरे हमले के दौरान शरीर की कमजोर एंटीबॉडी प्रभावी नहीं होती हैं। अगस्त 2020 में, कोरोना वाले एक मरीज को बार-बार संक्रमण का पता चला था।

प्रश्न: पुन: संक्रमण कितना गंभीर है?

A: एक तरफ, भारत में टीकाकरण शुरू हो चुका है दूसरी तरफ दोबारा संक्रमण के मामले भी सामने आ रहे हैं दोबारा संक्रमण पहले से अधिक खतरनाक भी हो सकता है| ज्यादातर मामलों में यह गंभीर नहीं है। लेकिन कुछ लोगों में दूसरा संक्रमण गंभीर था। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से है जिन्हें पहले में कोई लक्षण नहीं थे।

प्रश्न: इस खतरे के बारे में विज्ञान क्या कहता है?

उत्तर: आईसीएमआर अध्ययन के अनुसार, यह माना जाता है कि पहली बार की तुलना में दूसरी बार स्थिति अधिक गंभीर है। यदि आपको पहली बार कोरोना संक्रमण हुआ है और आपको कोई लक्षण नहीं है, तो आपका शरीर वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी को याद नहीं कर पाएगा। इसलिए,वायरस का दूसरा हमला शरीर रोक नहीं सकता ।

प्रश्न: वैक्सीन कितना फायदेमंद है?

ए: टीका संक्रमण को रोकने और संक्रमण की गंभीरता को कम करने में मदद करता है। लेकिन कब तक? इस बारे में कोई निश्चित जानकारी नहीं है। दूसरी ओर फाइजर और बायोएंटेक का दावा है कि वैक्सीन लेने वाले 6 महीने तक संक्रमित नहीं हो सकते। लेकिन मुद्दा यह है कि टीका लगने के बाद कोई व्यक्ति कितने समय तक संक्रमण से बच सकता है, यह केवल उनके शरीर की रेजिस्टेंस  प्रणाली द्वारा निर्धारित किया जा सकता है।

प्रश्न: क्या नया संस्करण फिर से संक्रमण के जोखिम में बदलाव करता है?

A: हमें यूके वेरिएंट (B 1.1.7) और साउथ अफ्रीकन वेरिएंट (B.1.351) के बारे में बताया गया है कि ये स्ट्रेन तेजी से फैलते हैं। डॉ के अनुसार, यदि वैरिएंट में एंटीजेनिक परिवर्तन होता है तो पुन: संक्रमण हो सकता है।

प्रश्न: क्या पुन: संक्रमण को रोकने के लिए कोई उपाय है?

ए: कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने के लिए सावधानी बरती जानी चाहिए। मास्क, स्वच्छता, स्वच्छता और सुरक्षित दूरी की आदत डालें। चाहे आप युवा हों, स्वस्थ हों, या टीका लगाया गया हो, ये आदतें आपको पुन: संक्रमण के जोखिम से बचाएंगी।



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ