Newspuran Desk 2August 3, 20201min35

जिसे ख़बर न अपने घर की बात करे वो दुनियाभर की। – दिनेश मालवीय”अश्क”

Poetry-Page-Writer-Newspuran

 

जिसे ख़बर न अपने घर की
बात करे वो दुनियाभर की।

यहाँ किसी का सगा न कोई
बात न पूछो महानगर की।

जिसको अपनों ने ठुकराया
ठोकर खाता है दर दर की।

तेरी नादानी से नादां
घर की बात हुयी घर घर की।

पोखर मे भी जो न उतरे
लेने थाह चले सागर की।

जिन्दा मात-पिता को ठुकरा
पूजा करता वो पाथर की।

जब तक वो कुर्सी पर बैठा
उसने मनमानी जी भर की।

असली मुद्दे पर अब आ जा
बहुत हुयी अब इधर-उधर की।

बारिश मे कैसे वो नाचे
टपक रही छत जिसके घर की।

सूर्य क्षितिज मे धरती से मिल
थकन मिटाता है दिनभर की।

“अश्क” धूप मे जलना चाहें
छाँव नहीं चाहें तरुवर की।

DineshSir-01-B


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ