प्रकृति का संरक्षण क्यों जरूरी है? वक्त आ गया है सावधान होने का

प्रकृति का संरक्षण क्यों जरूरी है? वक्त आ गया है सावधान होने का
Why Nature Conservation so Important
दुनिया में धरती जीवन के लिए सबसे अनुकूल ग्रहों में से एक है| हम नहीं जानते कि इस दुनिया में और ऐसे कितने ग्रह है जहां पर इतनी विविधता भरा जीवन मौजूद है| लेकिन एक बात तय है कि पृथ्वी जैसा दूसरा ग्रह होना बहुत मुश्किल है| 

ये भी पढ़ें..ब्रह्मांड के सन्देश: परिवर्तन की आहट: धरती पर होगा बड़ा बदलाव: अतुल विनोद 


परमात्मा ने पृथ्वी को उन सभी प्रतियोगिताओं से भर दिया है जो जीवन के लिए आवश्यक है| इसीलिए इस धरती पर विविध प्रकार के जीव मौजूद हैं| भारतीय धर्म दर्शन में इनकी प्रजातियों की संख्या 84 लाख बताई गई है| साइंस लगभग इतनी ही प्रजातियों के अस्तित्व को स्वीकार करता है| 

हम पूरी तरह से आश्वस्त हो सकते हैं कि यह ब्रह्मांड का एकमात्र ऐसा ग्रह है जहां माउंटेन गोरिल्ला, शेर, बाघ और डनॉक जैसी प्रजातियां विकसित हुई हैं।

ये भी पढ़ें..अंतरिक्ष पर्यटन का रईसी शगल और धरती की चिंताएं.. अजय बोकिल


हम विश्वास कर सकते हैं कि डोडो, पैसेंजर पिजन, स्टेलर की समुद्री गाय और तस्मानियाई टाइगर केवल इस ग्रह पर ही रहे हैं। फिर भी हमने मनुष्य के कार्यों के कारण इन सभी को विलुप्त होते देखा है।

हम अपनी जरूरतों और अपने लालच को पूरा करने के लिए इन जीव जंतुओं के आवास और पारिस्थितिकी तंत्र को नष्ट कर देते हैं। जब से हमने चीज़ें बनाना सीखा है, हम हजारों प्रजातियों के विलुप्त होने के लिए जिम्मेदार हैं।

क्या प्रकृति संरक्षण मायने रखता है? संरक्षण क्यों जरूरी है ऐसे समझिए...

1- मैंग्रोव, समशीतोष्ण और बोरीअल जंगल धरती का 30 प्रतिशत हिस्सा है। यह रशिया, कनाडा और अमेरिका को मिलाने पर हुई हिस्से भी ज्यादा है। इसी जंगल पर धरती का भविष्य टिका है।

2- पेड़ ही कार्बन डाइ ऑक्साइड को ग्रहण करके ऑक्सीजन छोड़ते हैं। दुनिया की 20 प्रतिशत ऑक्सीजन अमेजन रेन फॉरेस्ट से निकलती है।

3- 50 वर्ष के दौरान एक पेड़ 6 हजार पाउंड ऑक्सीजन उत्पन्न करते हैं। इसे ऐसे समझें कि इतनी ऑक्सीजन में चार लोग पूरे वर्ष श्वास ले सकते हैं।

ये भी पढ़ें..प्लास्टिक की जगह अब पेपर बैग में मिलेगा पानी, हैदराबाद में शुरू हुआ धरती को बचाने का ‘इको-फ्रेंडली कैंपेन’


4- नदियों और झरनों के किनारे खड़े जंगल "जीते जागते फिल्टर" हैं। ये अतिरिक्त पोषक तत्वों व प्रदूषकों को भी सोख लेते हैं। ये नाइट्रोजन की 90 प्रतिशत और फास्फोरस की 50 प्रतिशत तक सांद्रता कम करते हैं।

5- समशीतोष्ण जंगल धरती के केवल 7 प्रतिशत हिस्से में हैं लेकिन उनमें धरती के 50 प्रतिशत जीव-जंतु निवास करते हैं।

6- दुनियाभर में बेची जाने वाली 120 से ज्यादा महत्वपूर्ण दवाइयां वर्षा वन या रेन फॉरेस्ट से प्राप्त होती हैं।

7- समशीतोष्ण वन कार्बन के अवशोषण के लिए बहुत अहम हैं। जलवायु परिवर्तन के लिए जो कदम उठाने हैं उनका 30 प्रतिशत दारोमदार इन्हीं पर है।

8- जंगल 5 करोड़ आदिवासियों का घर भी है। टोक्यो, मेक्सिको सिटी, लंदन, न्यूयॉर्क सिटी और कैरो में इतनी बड़ी आबादी में लोग जंगलों में रहते हैं।

9- दुनियाभर में 1 अरब लोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जंगल पर निर्भर करते हैं।

10- जंगलों को बचाना है तो जानवरों को भी बचाना होगा। जानवरों के जरिए ही जंगल में बीजों का परागण होता है।

ये भी पढ़ें.. रात की Artificial light जलने से धरती हो रही धीरे- धीरे तबाह, वैज्ञानिकों ने कहा- भयानक होंगे नतीजे  


EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ