अपने जीवन की नायिका बनिए शिकार नहीं

अपने जीवन की नायिका बनिए शिकार नहीं

महिलाओं के लिए बराबरी,सम्मान और सुरक्षा चाहने की लड़ाई कभी ना ख़त्म होने वाली जंग है | ऐसा होना लाजिमी भी है क्योंकि इनके बिना वे सशक्त नहीं हो सकतीं | उनके अस्तित्व को वो पहचान नहीं मिल सकती जिसकी वे हक़दार हैं | उनकी काबिलियत को वो मान नहीं मिल सकता जिसकी वे योग्यता रखती हैं | यकीनन इसके लिए हमारे पूरे परिवेश में बदलाव की दरकार है | लेकिन ऐसा भी बहुत कुछ है जो महिलायें ख़ुद अपने अस्तित्व को सहेजने- सँवारने के लिए कर सकती हैं | ऐसी कई बातें हैं जो अपनी पहचान को पुख़्ता करने के लिए वे अपने व्यवहार और विचार में शामिल कर सशक्तीकरण की डगर पर पूरे हौसले से आगे बढ़ सकती हैं |

 

Life_heronie_Newspuran_1

जरूरी है कि सबसे पहले तो सशक्त होने के सही मायने समझें | इसके लिए अपने अधिकारों को लेकर सजग होने के साथ-साथ अपनी जिम्मेदारियों को निभाने की भी सोचें | यह महिला होने के नाते नहीं बल्कि समाज की एक नागरिक होने के नाते भी जरूरी है | सशक्‍त बनने और बने रहने की एक ज़रूरी शर्त है जागरूक और सजग रहना | आज के समय में यह जागरूकता और भी जरूरी है क्योंकि महिलाओं के खिलाफ होने वाली हर नेगेटिविटी के विरोध में आवाज़ बुलंद करने के लिए नियम कानूनों को जानना आवश्यक है | इसीलिए इनकी जानकारी ख़ुद भी रखें और दूसरी महिलाओं के साथ भी साझा करें। आप महिलाओं की ज़िन्दगी से जुड़ी दूसरी रूढ़ियों लेकर भी मुखर बनें | खुद भी संकीर्ण विचारों से निकलें और औरों को समझाइश देने की कोशिश करें | होममेकर हों या वर्किंग जहाँ भी मौका मिले सार्थक और सकारात्मक पहल जरूर करें | घर-दफ्तर की जिम्मेदारियों को पूरा करने के साथ ही अपने सामाजिक दायित्वों के प्रति भी सजग रहना भी जरूरी है | यह सजगता रखने वाली महिलायें कर्तव्यों के लिए सचेत होते हुए अपने अधिकारों को लेकर आवाज़ उठाने का भी माद्दा रखती हैं । वे ख़ुद को मानसिक और सामाजिक रुप से मजबूत कर पाती हैं | ज़िन्दगी के हर मोर्चे पर सशक्त भागीदारी निभाने लिए जागरूक और सजग रहना जरूरी है | समाज में मौजूद हर समस्या का हल यही है महिलाओं में चेतना आये | जो आधी आबादी को बदलाव लाने के साहस से लबरेज़ करे |

सशक्त होने के लिए एक बात सबसे जरूरी है कि हम अपनी बात कहना सीखें | घर हो या बाहर किसी भी मामले में जो विचार रखती हैं उन्हें खुलकर साझा करें | एक महिला होने के चलते इस बात का कोई डर नहीं रखें कि आपको क्या कहना चाहिए और क्या नहीं ? अपनी मौजूदगी दर्ज करवाने का सबसे बेहतर और आत्मविश्वासी तरीका यही है कि मुखर बना जाए | यूँ भी अपनी राय बताने का हक़ सभी को होता है | लेकिन हमारे परिवेश में महिलायें अक्सर अपनी बात नहीं कह पाती हैं | अगर आपके साथ ऐसा है तो इस संकोच के दायरे से बाहर आयें दूसरों के विचारों को सुनने और सम्मान का का यह मतलब नहीं है कि खुद की बात साझा ही न की जाये | कई बार देखने में आता है कि महिलाएं अपने आप को बाँधें रहती हैं । एक सधे हुए व्यवहार के फेर में अपनी राय शेयर करने की कोशिश ही नहीं करतीं | कई बार काबिलियत और क्षमता की धनी होने के बावजूद इस संकोची स्वभाव के कारण महिलायें घर और बाहर हर जगह दोयम दर्जा पाती हैं | अफ़सोस कि ऐसा व्यवहार उनके सशक्त बनने में सबसे ज़्यादा आड़े आता है | अपनी बात स्पष्टता से ना कहने का उनका व्यवहार धीरे धीरे पूरे व्यक्तित्व पर हावी हो जाता है । जिसके चलते वे अपने परिवेश और अपनों से भी दूर हो जाती हैं। इसीलिए मुखर बनें और खुद के अस्तित्व को सहेजें ।

महिलाएँ गृहिणी हों या कामकाजी | अपने अस्तित्व को लेकर जागरूक रहें | हर हाल में अपनी एक मुकम्मल पहचान को कायम रखिए | इस मामले में कमतरी या बेहतरी का अहसास मन में कभी ना लायें | कहते हैं कि दूसरों के लड़ना आसान होता है लेकिन खुद अपने आवाज़ उठाने में कोताही की जाती है | इसलिए अपनी खूबियों और खामियों को समझते हुए अपने व्यक्तित्व को तराशें | आत्मविश्वास और सजगता आपकी पहचान को पुख्ता करने वाले अहम् पहलू हैं | इसके लिए कभी अकेले अपना रास्‍ता तय करने सोच भी रखें तो कभी टीम में काम करने का जज़्बा भी दिखाएं | महिलाओं के सामने घर के भीतर और बाहर जितनी भी परेशानियां आती हैं उनकी एक बड़ी वजह है उनका अपने ही अस्तित्व के प्रति जागरूक ना होना | अपनी पहचान को लेकर गंभीर ना होना । हर अच्छे बुरे व्यवहार के लिए स्वीकार्यता का भाव उनके चेतन अस्तित्व पर कई सारे सवाल खड़े करता है। आज के दौर में ज़रूरी है कि महिलाएं इस सोच से बाहर आयें और इन अनचाहे बंधनों से खुद को आज़ाद करें | अमेरिका की जानी मानी लेखिका नोरा एफ्रान कहती हैं कि "हर चीज से बढ़कर, अपने जीवन की नायिका बनिए शिकार नहीं " यानि ज़िन्दगी में जो भी भूमिका आप निभा रही हैं उसमें लीडरशिप का भाव रखें | ख़ुद की पहचान कभी ना खोने दें | इसके लिए खुद भी मजबूती से खड़े होना सीखें और किसी और का भी सहारा बनें | किसी पीड़ा भी बांटे और संबल भी दे | परेशानी के दौर में किसी का दें और कामयाबी के समय सराहना भी करें | सशक्त होने का अर्थ ही है कि हम ख़ुद को मजबूती से थामते हुए दूसरों को कुछ देना भी सीखें |

डॉ. मोनिका शर्मा


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ