• India
  • Sun , Apr , 14 , 2024
  • Last Update 08:23:PM
  • 29℃ Bhopal, India

नड्ढा जी गजब कर गए बस टिकट और ठीक से बंट जाएं

सार

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयप्रकाश नड्ढा की पिछले दिनों मध्य प्रदेश यात्रा खूब सुर्खियों में रही।

janmat

विस्तार

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयप्रकाश नड्ढा की पिछले दिनों मध्य प्रदेश यात्रा खूब सुर्खियों में रही। यात्रा में नड्डा जी ने नेता पुत्रों को चुनाव से बाहर रखने की घोषणा कर कार्यकर्ताओं की दुखती नब्ज पकड़ने का ऐलान कर गजब कर दिया और पार्टी ने भी उनके स्वागत में  कोई कसर नहीं छोड़ी।

उनके अभिनंदन को देखकर तत्कालीन अध्यक्ष गृह मंत्री अमित शाह के भोपाल आगमन की याद भी आ गई तब शाह, प्रदेश अध्यक्ष बने सांसद राकेश सिंह को कार्यभार ग्रहण कराने भोपाल आए थे और कार्यभार ग्रहण समारोह प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक भी बन गया था हालांकि इसके पहले ऐसा कभी नहीं हुआ और इससे अपवाद स्वरूप एक कार्यक्रम माना गया है लेकिन लगता है शाम के समय जो भीड़ भरी कार्यसमिति की बैठक हुई थी नड्डा के आगमन पर विस्तारित सी कार्यसमिति आम सभा और कार्यकर्ता अधिवेशन में तब्दील हो गई।

लाल परेड मैदान पर जो कार्यक्रम हुआ वह आम सभा की शक्ल लिए हुए ही दिखा। प्रदेशभर से आए चुनिंदा कार्यकर्ताओं के लिए इस तरह का आयोजन थोड़ा अजीब लगा हुआ क्योंकि भाजपा कार्यकर्ताओं की ऐसी फितरत नहीं रही। इसमें प्रबंधन भी कमजोर सा रहा।  प्रदेश कार्यकारिणी, कार्यसमिति, प्रशिक्षण वर्ग और अधिवेशन की एक परंपरा, परिपाटी, अनुशासन और मर्यादा रही है।  इनमे विषयवार चर्चाओं के सत्र होते आए हैं।

पार्टी बकायदा राजनीतिक प्रस्ताव पारित करती है। साथ ही अगले 3 माह की योजना पर चर्चा करने के साथ मंडल स्तर के कार्यकर्ताओं को उस पर अमल करने के लिए जानकारी भी दी जाती है। लेकिन इसका अभाव दिखा। अध्यक्ष के तौर पर अमित शाह के आगमन पर जो पहली बार हुआ था नड्ढा जी के आगमन पर वह दूसरी बार हो गया। भविष्य में राष्ट्रीय अध्यक्ष के आगमन पर विस्तारित कार्यसमिति की बैठक करने की परंपरा भी बन सकती है।

अब तक नियम- कायदे और परंपराओं से बंधे कार्यकर्ताओं के लिए यह थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन उन्हें इसकी आदत डाल लेनी चाहिए। यह बदलते जमाने की भाजपा है। सियासत के इस आर्केस्ट्रा में रीमिक्स का दौर है। जिसमे दिल को छू लेने वाली मौसिकी, पानी की तरह बहने वाला संगीत और मखमली गायकी जगह तेजी से कम होती जा रही है। 

 अब जो नए कार्यकर्ता आगे जाकर जो संगठन और सरकार के माई बाप बनेंगे शायद उन सबके लिए यह सामान्य बात हो लेकिन भाजपा को इस मुकाम तक लाने वाले कार्यकर्ताओं के लिए यह सब अटपटा सा है। आसान भाषा मे समझने के लिए यह सब वैसा ही है जैसे संगीत की दुनियां में लता जी , किशोर कुमार, मो रफी,मन्नाडे, कुंदन लाल सहगल, मुकेश से लेकर शास्त्रीय संगीत के धुरंदर भीमसेन जोशी, कुमार गन्धर्व, गज़लों में मेहंदी हसन , गुलाम अली, जगजीत सिंह, पंकज उधास, अनूप जलोटा, जैसे महान लोगों को जिन श्रोताओं ने सुना और देखा उन्हें अचानक वेस्टर्न म्यूजिक में डूबे रीमिक्स और गन कल्चर से प्रभावित रेप सान्ग सुनना पड़े।  

मसलन, मस्ती और सुफियान सुरताल की जो जुगलबंदी पंजाब के पारंपरिक संगीत में दिखाई देती रही है उसमें दौलत और शोहरत, मारामारी का तड़का गलाकाट कम्पटीशन जानलेवा हो रहा है। आज के संगीत और सियासत में  सब है लेकिन सुकून नही है।

राजनीति की तमाम वर्जमाओ और विद्रूपताओं की भरमार के बीच नड्डा जी ने चुनावो में परिवारवाद  के रेप सान्ग और रीमिक्स पर जो परशुरामी फरसा चलाया है उससे कार्यकर्ता गदगद है। राजनीति के इस नड्डा राग ने जो सुर छेड़ा उसकी सफलता टिकटों के सही वितरण पर निर्भर है। कार्यकर्ता राग के लिए संगीत के उस्तादों के साथ पारंगत साजिंदों की भी दरकार है। रियाज सही रहा तो कामयाबी कदम चूमेगी। कमजोर प्रत्याशियों के चयन उनके इस कार्यकर्ता महाराग को बेसुरा कर रंग में भंग कर देगा। ठीक वैसे ही जैसे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जनता राग को बेलगाम और बेईमान लालफीताशाही बेसुरा कर देती है। 

अफसरों का भृष्ट राग, थोड़े को ज्यादा समझने की जरूरत 

अफसरों का भृष्ट राग जानने के लिए हांडी के चावल की तरह दो घटनाएं काफी है - एक सिरोंज के भाजपा विधायक उमाकांत शर्मा की और थांदला के कांग्रेसी आदिवासी विधायक वीर सिंह भूरिया के एक्शन की। थांदला के कचलदरा गांव में नलजल योजना के तहत पानी की टंकी बन रही थी विधायक जी वहां पहुंचे और घटिया निर्माण सामग्री देख कर नाराज हो गए इस पर उन्होंने सुपरवाइजर की जूतों से पूजा कर दी प्रशासनिक तौर पर इसकी आलोचना हो रही है लेकिन घटिया निर्माण को लेकर विधायक के विश्व की जनता में तारीफ हो रही है हालांकि यह कानून हाथ में देने जैसी बात है लेकिन जब भ्रष्टाचार बेईमानी काबू के बाहर हो जाए तो इस तरह की घटनाएं आम हो सकती हैं।

दूसरी घटना सिरोंज की है जहां भाजपा विधायक उमाकांत शर्मा का गुस्सा मट्ठर, बोथरी और ढीठ होती भृष्ट हुई व्यवस्था पर फूट पड़ता है। वे कहते हैं अफसरों को हजार- पांच सौ तो क्या ढाई - ढाई सौ रुपए तक की रिश्वत मांगने से न गुरेज है न परहेज। अधिकारी कर्मचारियों को सरकार अच्छा खासा वेतन दे रही है इसलिए जनता से रिश्वत किए बिना उन्हें काम करना चाहिए और जो रिश्वत मांगे जनता को उचित जूते मारने चाहिए इस बात पर पूर्व राज्यपाल और भाजपा के वरिष्ठ नेता रहे तो तो कप्तान सिंह सोलंकी ने अपने ट्विटर पर कहा है कि अफसर 500 रु तक नही छोड़ते यह ध्यान देने का विषय है क्योंकि इससे सुशासन को पलीता लगाया जा रहा है। श्री सोलंकी के इस ट्वीट को थोड़े को ज्यादा समझने की जरूरत है। 

चंबल में महाराजा विरुद्ध राजा 

कांग्रेस ने सिंधिया के गढ़ कहे जाने वाले ग्वालियर चंबल क्षेत्र में महाराजा के विरुद्ध राघोगढ़ के राजा दिग्विजय सिंह को कमान सौंप दी है। अब वहां सारी जमावट दिग्विजय सिंह करेंगे। इसी के चलते हैं चंबल के वरिष्ठ कांग्रेस विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह को नेता प्रतिपक्ष बना चंबल क्षेत्र में ताकतवर किया गया है।

पंचायत व नगरी निकाय चुनाव में  जिला व जनपदों से लेकर नगर निगम और नगर पालिका में महापौर- नगर पालिका अध्यक्ष और पार्षदों के ज्यादातर टिकट राजा की पसंद के होंगे। अभी से विधानसभा चुनाव की गोटियां बिछाई जा रही है। नतीजे नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस को मजबूत बनाते हैं तो अगले विधानसभा चुनाव भाजपा और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर के होंगे।