• India
  • Sun , Apr , 21 , 2024
  • Last Update 07:36:PM
  • 29℃ Bhopal, India

शांत “मोहिनीअट्टम” और अदालती फरमान 

राकेश दुबे राकेश दुबे
Updated Sat , 21 Apr

सार

“मोहिनीअट्टम” की मशहूर कलाकार नीना प्रसाद ने फेसबुक के माध्यम से वहां जो कुछ हुआ था, उस पर अपनी अस्वीकृति व्यक्त की है और कहाहै कि उसने और उसकी टीम ने प्रस्तुति देने के लिए लंबे समय तक अभ्यास किया था और दो साल के कोरोना दुष्काल बाद यह मंडली की पहली प्रस्तुति थी।डॉ नीना प्रसाद को प्रदर्शन रोकने के लिए मजबूर करने के बाद एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया है ।

janmat

विस्तार

वायलिन, मृदंगम और एडक्का जैसे कमोबेश शांत और सुरीले वाद्ययंत्रों के साथ किया जाने वाला केरल के पारम्परिक नृत्य “मोहिनीअट्टम” को रोकने को लेकर केरल में एक जज कौर वकीलों के बीच मोर्चा खुल गया है| वकीलों के ने कल अर्थात बुधवार को केरल में पलक्कड़ अदालत के सामने न्यायाधीश कलाम पाशा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। इन न्यायाधीश ने अपने घर के पास सरकारी स्कूल में आयोजित हो रहे शास्त्रीय नृत्य“मोहिनीअट्टम” को रोकने के पुलिस को निर्देश दिए थे।यह घटना बीते शनिवार की है जब “मोहिनीअट्टम” की मशहूर कलाकार नीना प्रसाद रात करीब साढ़े आठ बजे अपना नृत्य प्रस्तुत कर रही थीं।

वकील सन्गठन के एक पदाधिकारी ने कहा, हमें यह कहने में कोई गुरेज नहीं है कि “सम्राट के पास कपड़े नहीं हैं। हमें लगता है कि यह कहना हमारा कर्तव्य है।“यह कार्यक्रम राजकीय मोयन एल.पी. स्कूल में शेखरीपुरम पुस्तकालय के फ्रेंड्स कलेक्टिव (सौहरुदा कूटयमा) द्वारा आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान ही पुलिस ने हस्तक्षेप किया और आयोजकों से प्रदर्शन रोकने को कहा।शिकायत करें वाले जज उसी स्कूल के पास रहते हैं जहां पर नृत्य किया जा रहा था और आयोजकों की गुहार के बावजूद पुलिस ने कलाकारों को परफॉर्म नहीं करने दिया।

“मोहिनीअट्टम” की मशहूर कलाकार नीना प्रसाद ने फेसबुक के माध्यम से वहां जो कुछ हुआ था, उस पर अपनी अस्वीकृति व्यक्त की है और कहाहै कि उसने और उसकी टीम ने प्रस्तुति देने के लिए लंबे समय तक अभ्यास किया था और दो साल के कोरोना दुष्काल बाद यह मंडली की पहली प्रस्तुति थी।डॉ नीना प्रसाद को प्रदर्शन रोकने के लिए मजबूर करने के बाद एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया है ।दूसरी और जज पाशा ने दावा किया कि नीना प्रसाद का मोहिनीअट्टम शो, जो शनिवार को रात करीब ०८.३० बजे होने वाला था, उनके लिए एक उपद्रव था और आयोजकों को शो को रोकने के लिए मजबूर किया।

सर्वविदित है पालक्काड पुलिस ने न्यायाधीश के आदेश के आधार पर कार्यक्रम स्थल और ‘सख्यम’ नामक घंटे भर के प्रदर्शन को रोक दिया, जिसने कृष्ण और अर्जुन के बीच संबंधों में तनाव को चित्रित किया। वरिष्ठ कलाकार नीना प्रसाद और उनकी टीम को मंच पर अपमानित किया गया और उनकी आंखों से आंसू छलक पड़े।घटना के बाद, डॉ प्रसाद ने कहा, “यह मेरे नृत्य करियर का सबसे कड़वा अनुभव था। यह न केवल मेरे लिए बल्कि उन साथी कलाकारों के लिए भी एक अपमानजनक अनुभव था, जिन्होंने दो साल से अधिक के हाइबरनेशन के बाद उच्च आशाओं के साथ मंच पर प्रतिभा प्रदर्शन की की दिनों से तैयारी की थी |आयोजन प्रसिद्द शेखरीपुरम ग्रैंडशाला द्वारा किया गया था, जहां श्रीचित्रन एमजे द्वारा लिखित पुस्तक “इतिहासंगले थेदी” का भी विमोचन किया गया था।

प्रख्यात कलाकार डॉ प्रसाद ने आरोप लगाया कि यह एक न्यायिक अधिकारी की मनमानी थी। “यह एक जटिल एकल प्रदर्शन था जिसके लिए मैंने अपना बहुत समय समर्पित किया। यह वायलिन, मृदंगम और एडक्का जैसे शांत वाद्ययंत्रों के साथ किया गया था। यह निश्चित रूप से एक कर्कश नहीं था” ।

केरल की प्रतिनिधि संस्था पुरोगमना कला साहित्य संघम ने न्यायाधीश पर सांस्कृतिक असहिष्णुता प्रदर्शित करने का आरोप लगाया। संघम के अध्यक्ष शाजी एन करुण और महासचिव अशोकन चारुविल ने लोगों से कलाकारों और सांस्कृतिक नेताओं को चुप कराने के प्रयासों का विरोध करने का आह्वान किया। साहित्य संघ ने कहा कि राज्य को अपनी कला और संस्कृति का गला घोंटना नहीं चाहिए।

संस्था का कहना है “केरल के लोग हमेशा नौकरशाहों और जजों की तुलना में कलाकारों को अधिक सम्मान और महत्व देते हैं। समय आ गया है कि हमें याद आए कि हमारे पास एक प्रधानमंत्री था जिसने एक कलाकार (एमएस सुब्बुलक्ष्मी) को उच्च पद दिया था।पुलिस ने भी अपनी बात कही है पुलिस ने कहा कि उनके पास न्यायाधीश के आदेश का पालन करने के अलावा कोई विकल्प आज भी नहीं है, उस दिन भी नहीं था|”

जज पाशा पहले भी विवादों में घिरे रहे हैं। अब केरल के पलक्कड़ जिले में सत्र अदालत के न्यायाधीश हैं, बी कलाम पाशा की पत्नी ने उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए शिकायत दर्ज करने के लिए केरल उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। दिलचस्प बात यह है कि आरोपी न्यायाधीश कलाम पाशा के भाई केरल उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश बी कमाल पाशा हैं।