• India
  • Sun , Apr , 14 , 2024
  • Last Update 07:59:PM
  • 29℃ Bhopal, India

बिजली की खपत बढी, आर्थिक गतिविधियों में बढ़ोतरी ?

राकेश दुबे राकेश दुबे
Updated Tue , 14 Apr

सार

आंकड़ों से पता चलता है कि जनवरी में बिजली की खपत 126.30 अरब यूनिट की तुलना में 5.4 प्रतिशत बढ़कर 133.18 अरब यूनिट हो गई..!!

janmat

विस्तार

चालू वित्त वर्ष  के पहले 10 महीने (अप्रैल-जनवरी) के दौरान देश की बिजली की खपत सालाना आधार पर 7.5 प्रतिशत बढ़कर 1,354.97 बिलियन यूनिट (बीयू) हो गई है। इससे देशभर में आर्थिक तेजी के संकेत है।केंद्र सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की कुछ ऊर्जा कंपनियों की सहायकों को सूचीबद्ध कराने पर विचार कर रही है। 

निवेश व सार्वजनिक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांत पांडे ने शुक्रवार को ये संकेत दिए हैं, उन्होंने कहा कि हमारी महत्त्वपूर्ण कंपनियों में से कुछ की सहायकों के पास बाजार में उतरने के काफी मौके हैं। ऊर्जा क्षेत्र में सहजता से ट्रांजिशन हो रहा है। ऊर्जा कंपनियां हरित परिसंपत्ति के लिए सहायकों का सृजन कर इस ओर बढ़ रही हैं। इसमें वृद्धि की काफी संभावनाएं हैं और ये तेजी से आगे बढ़ रही हैं।

वैसे ये कंपनियां पूंजी बाजार में आईपीओ लाकर कुछ धन जुटा सकती हैं। दीपम सचिव ने भी कहा है कि बाजार की थाह लेने के लिए सूचीबद्धता अहम है और सूचीबद्ध कंपनियां असूचीबद्ध के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं।सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के विनिवेश पर उन्होंने कहा, बाजार में शेयरों का विनिवेश कुछ निश्चित सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए जो बाजार के साथ सुसंगत हो। इससे कीमत बहुत ज्यादा नहीं होगी और न ही हमें सस्ता बेचना चाहिए।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, इस वित्त वर्ष की अप्रैल-जनवरी अवधि में देश में बिजली की खपत बढ़कर 1354.97 बिलियन यूनिट (बीयू) हो गई है, जो वित्त वर्ष 2022-23 की अप्रैल-जनवरी अवधि में 1259.49 बीयू थी।

आंकड़ों से पता चलता है कि 2022-23 के पूरे वित्तीय वर्ष में यह 1505.91 बिलियन यूनिट था। विशेषज्ञों का मानना है कि देश में बिजली की खपत में 7.5प्रतिशत की वृद्धि इस वित्तीय वर्ष के पहले 10 महीनों में आर्थिक गतिविधियों में बढ़ोतरी को स्पष्ट रूप से दर्शाती है।

उन्होंने कहा कि अगस्त, सितंबर और अक्टूबर में बिजली की खपत मुख्य रूप से आर्द्र मौसम और त्योहारी सत्र से पहले औद्योगिक गतिविधियों में तेजी से बढ़ी। विशेषज्ञों का कहना है कि आर्थिक गतिविधियों में सुधार और शीत लहर की स्थिति के कारण फरवरी में भी बिजली की खपत में स्थिर वृद्धि होगी।

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने जनवरी में जारी अपने पहले अग्रिम अनुमान में 2023-24 में देश की आर्थिक वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रहने की बात कही है।

आंकड़ों से पता चलता है कि जनवरी में बिजली की खपत 126.30 अरब यूनिट की तुलना में 5.4 प्रतिशत बढ़कर 133.18 अरब यूनिट हो गई। एक दिन में पूरी की गई अधिकतम बिजली की मांग जनवरी में बढ़कर 222.32 गीगावाट हो गई। जनवरी, 2023 में अधिकतम बिजली आपूर्ति 210.72 गीगावाट और जनवरी, 2022 में 192.18 गीगावॉट थी।

विशेषज्ञों ने कहा कि जनवरी में बिजली की खपत के साथ-साथ मांग में भी सुधार हुआ क्योंकि इस महीने विशेषरूप से उत्तर भारत में पारा तेजी से गिरा। शीत लहर के कारण हीटर, ब्लोअर और गीजर जैसे गर्मी प्रदान करने वाले उपकरणों का इस्तेमाल बढ़ गया, जिससे कुल बिजली की मांग में सुधार हुआ।

बिजली मंत्रालय ने अनुमान लगाया था कि 2023 में गर्मियों के दौरान देश में बिजली की मांग 229 गीगावाट तक पहुंच जाएगी। बेमौसम बारिश के कारण अप्रैल-जुलाई में मांग अनुमानित स्तर तक नहीं पहुंची। हालांकि, अधिकतम आपूर्ति जून में 224.1 गीगावाट की नई ऊंचाई को छू गई, लेकिन जुलाई में यह गिरकर 209.03 गीगावाट पर आ गई।

अगस्त में अधिकतम मांग 238.82 गीगावाट तक पहुंच गई। सितंबर, 2023 में यह 243.27 गीगावाट थी। अक्टूबर में अधिकतम मांग 222.16 गीगावाट,नवंबर में 204.77 गीगावाट और दिसंबर में 213.62 गीगावाट थी।