• India
  • Tue , Mar , 05 , 2024
  • Last Update 03:21:PM
  • 29℃ Bhopal, India

बेहद भयानक मंजर : मानवता को बचाइए 

राकेश दुबे राकेश दुबे
Updated Thu , 05 Mar

सार

फिलिस्तीन के चरमपंथी संगठनों ने पिछले शनिवार को अचानक गाजा पट्टी से इस्राइल पर 5000 से ज्यादा राकेटों से भयानक हमला किया जिसमें मानवता का कत्ल हुआ है..!

janmat

विस्तार

इस्राइल-फिलिस्तीन के मज़हब और जमीन को लेकर इस्राइल-फिलिस्तीन के मध्य एक शताब्दी से जारी वैमनस्य को लेकर युद्ध जारी है। वर्तमान में वैश्विक स्तर पर भी इस विवाद को लेकर देश बंटे हुए हैं। कुछ देशों ने हमास के हालिया हमले की निंदा की है और कुछ देश हमास संगठन की वकालत भी कर रहे हैं। प्रश्न यह है कि जो कत्लेआम हो रहा है उसका जिम्मेदार कौन है? खबरों के अनुसार दोनों पक्षों से हजारों लोग मारे गए हैं। फिलिस्तीन के चरमपंथी संगठनों ने पिछले शनिवार को अचानक गाजा पट्टी से इस्राइल पर 5000 से ज्यादा राकेटों से भयानक हमला किया जिसमें मानवता का कत्ल हुआ है।

कहते हैं पूरे विश्व में फैले इस्लामिक संगठनों में हमास बेहद ताकतवर है जो इस्राइल के विरुद्ध खुलेआम युद्ध का ऐलान करता है। हालांकि यासर अराफात के वक्त में इस संगठन की उस तरह से मान्यता नहीं थी परंतु उनकी मृत्यु के बाद यह उभर कर सामने आया है।मौजूदा हमले के संदर्भ में हमास के मुताबिक, 2021 में इस्राइल ने यरूशलम में मुसलमानों की पवित्र अल अक्सा मस्जिद को जो नुकसान पहुंचाया तथा गाजा पट्टी के लोगों की घेराबंदी की, यह उसका विरोध है। दूसरी ओर, दुनिया में सबसे चुस्त-दुरुस्त सैन्य ताकत एवं मोसाद जैसी काउंटर इंटेलिजेंस एजेंसी होने के बाद भी जिस तरह से इस्राइल पर यह योजनाबद्ध हमला किया गया, उसने कई प्रश्न खड़े किए हैं। 

ऐतिहासिक रूप में यह मजहब और जमीन की लड़ाई है। मिडिल ईस्ट में स्थित देश इस्राइल के दक्षिणी हिस्से में गाजा पट्टी है जिसे नेशनल कमेटी चलाती है तथा इसे संयुक्त राष्ट्र में भी मान्यता है। यह वह स्थान है जहां पर इस्लाम और ईसाई धर्म के पवित्र स्थान हैं। यहूदियों के लिए टेंपल माउंट और मुसलमानों के लिए अल हरम अल शरीफ के पवित्र स्थल अल अक्सा मस्जिद डोम ऑफ द रॉक इसी शहर में हैं। पैगंबर मोहम्मद से जुड़े होने के कारण मुसलमान भी इसे पवित्र स्थान मानते हैं।

फिलिस्तीन और इस्राइल में यहां कब्जे को लेकर विवाद की नींव पहले विश्व युद्ध के बीच में ऑटोमन साम्राज्य की हार के साथ ही रखी गई थी। विश्वयुद्ध खत्म हो गया उस वक्त इस्राइल नाम का कोई देश नहीं था और पूरा इलाका फिलिस्तीनी क्षेत्र था। वर्ष 1917 में ब्रिटेन ने यहूदी लोगों के लिए राष्ट्रीय घर के उद्देश्य की घोषणा की गई। व्यापक नरसंहार के बाद यह यहूदियों के लिए एक अलग देश की कोशिश थी। यहूदियों के मुताबिक, यह उनके पूर्वजों का घर था, दूसरी तरफ से फिलिस्तीनी लोग इसको अपना घर मानते थे। यही वह समय था जब इस्राइल ने अपनी आजादी का ऐलान किया था।

चौदह मई, 1948 को इस्राइल राज्य की स्थापना की घोषणा की गई और अमेरिका ने इसे मान्यता दी थी। साल 1917 से 2020 तक फिलिस्तीन पर इस्राइल का कब्जा बढ़ता गया। पहले यहूदी कुल 6 प्रतिशत थे। साल 1950 तक यहूदी सैन्य बलों ने 75000 फिलिस्तीनियों को निष्कासित किया। फिलिस्तीन के 78 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा किया गया, शेष 22 प्रतिशत को वेस्ट बैंक व गाजा पट्टी में विभाजित किया गया है। कुछ साल बाद फिर एक बार इस्राइली सेना ने पूरे इलाके पर कब्जा कर करीब तीन लाख फिलिस्तीनियों को दरबदर कर दिया।

यह विवाद अब दुनिया के देशों को बांट रहा है। अमेरिका और भारत ने सीधे तौर पर इस्राइल का पक्ष लिया है तथा आतंक की किसी भी घटना को उन स्थितियों में नकारा है कि यह मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। अब दुनिया के बड़े देशों के साथ इस्राइल के दोस्ताना संबंध हैं, इस्लामिक देश सऊदी अरब के साथ संबंध बन रहे हैं तो भारत ने भी बीते वर्षों से इस्राइल के साथ समझौते किए हैं। सामने आ चुका है कि पूरी दुनिया में दो धड़े हैं- एक वह जो आतंक के पक्ष में हैं और दूसरे वे जो आतंक के विरोध में खड़े हैं।

इन हमलों व उसके प्रत्युत्तर में युद्ध के दौरान सबसे ज्यादा मानवता का खून बहा है -जमींदोज होती इमारतें, बारूद और तबाही का गुब्बार और हजारों लोगों के सड़कों पर पड़े शव। जंग में इस्राइल की महिलाओं से जिस तरह से बेहूदगी की घटनाएं सामने आयीं उससे मानवता का सिर झुकता है। संयुक्त राष्ट्र और दुनिया के कई लोगों ने युद्ध को बंद करने की संभावना पर अपनी राय जताई है।