खानपान से नहीं इस वजह से बढ़ता है मोटापा.. आश्चर्यजनक किन्तु सत्य

-मोटापा और EMOTIONS

-मोटापा  महामारी की तरह बढ़ता  जा रहा है ।  यह अनेको रोगो की जड़ है ।

-यह माना जाता है कि  मोटापा चर्बी बढ़ने के कारण होता है तथा  और भी कई  कारण बताए जाते हैं । यह  भी सच है ।

-परन्तु मोटापे  का मूल कारण है भय ।

-हरेक व्यक्ति में कोई न  कोई सूक्ष्म भय है ।

-हम सभी मकान बनाते है और उस पर ताला लगाते है ताकि हमारे घर की  सब चीजे सुरक्षित रहें कहीँ हमारी चीजे चोरी न हो जाए ।

-राजा लोग दुश्मनों के डर से अपने किले के चारो तरफ ऊंची ऊंची दीवारे बनाते थे या खाईयां  बनाते थे ।

-देश  को खतरों से बचाने के  लिये प्रत्येक देश अपनी सेना रखता है । सेना अपने पास शक्तिशाली हथियार रखती  है ।

-अपने देश की रक्षा के भय के कारण  ऐटम वोम्ब बनाए जा रहें है ।

– हम सभी लोग बन्दरो,  जानवरो या और किसी प्रकार के आक्रमण के भय के कारण अपने घर पर लाठी डंडे या छोटे मौटे  हथियार रखते है ।

-जब हमें कोई सूक्ष्म भय होता है  प्रकृति  हमें उससे बचाने के लिये मोटापा ला देती है  ।

-भय या असुरक्षा आप के मन में है तो आप का वजन नियंत्रित नहीं हो सकता ।

-उदासीनता भी वजन बढाने में मददगार है ।

-जो लोग किन्ही कारणो से अपने शरीर से घृणा करते है उनका भी वजन बढ़ता है ।

-परिवार में कलह या तनाव के चलते डाईनिग टेबल पर टेंशन बना रहे तो मोटापा बढ़ता है ।

-शरीर के लिये भोजन जरूरी है वैसे ही भावनात्मक  स्नेह और प्रेम मन के लिये जरूरी है ।

-संबंधो में आघात,  प्रियजन की मौत,  पति से उपेक्षा,  दफ्तर में तनाव से भी कुंठा बढ़ती है ।  जिससे वजन अनियंत्रित होता है ।

-जिंदगी आप की अपनी है ।  इसकी देखभाल आप को ही करनी है ।

-ऐसे तमाम कर्म करें  जिनसे आनंद मिले  जैसे नृत्य,  शारीरिक व्यायाम,  स्वीमिंग पूल में तैरना ।

-साकारात्मक भावनाए रखें वजन अपने आप घट जाएगा ।

-प्रेम,  आभार,  अपनत्व से हमारे शरीर की कोशिकाएं शिथिल व शांत होती हैं  जिससे वजन नहीं बढ़ता ।

-अगर हम भगवान के प्रेम स्वरूप को याद करते  हैं तो डी.एन .ए .की  ऐंठन कम होती है ।

-गुस्सा,  ईर्ष्या,  बैर,  बदले के भाव हमारे डी .एन .ए . की  दीवारे कठोर बनाती है । जिससे तनाव बढ़ता है ।  शरीर की प्रतिरोधी क्षमता कम होती है ।  यही कारण है कि  मोटापा बढने लगता  है ।

-मन और शरीर  दोनो  जुड़े हुए है और एक दूसरे को  प्रभावित करते हैं  ।   जरा सा भी मन में असुरक्षा और भय होगा तो शरीर पर मोटापा आने लगेगा  ।

-सभी नकारात्मक घटनाओ में कोई न कोई साकारात्मक उद्देश्य हमारे लिये छिपा होता है हमें उसे पहचानना है ।

-प्यार सभी प्रकार के भयों से मुक्त कर देता है ।

-इसलिए भगवान के गुण प्यार के सागर को मन में बसा लेना चाहिए ।

Obesity definition,What is obesity in English,Obesity treatment,Types of obesity,Obesity meaning in Hindi,Obesity in Hindi,ओबेसिटी मीनिंग इन हिंदी,Obesity: Causes, Symptoms, Treatment And Prevention,Obesity causes & treatments – Illnesses & conditions,Obesity: Causes, Complications & Treatments,Obesity: Definition, Causes, Diagnosis, Treatment & More,


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ