दिल्ली में 58 लाख लोगों ने दी कोरोना को मात.. दूसरे सीरो सर्वेक्षण से हुआ खुलासा |

दिल्ली में 58 लाख लोगों ने दी कोरोना को मात.. दूसरे सीरो सर्वेक्षण से हुआ खुलासा | 29.1% लोगों ने COVID-19 के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की

SecondZeroDehli-Newspuran

दिल्ली में 58 लाख लोगों ने दी कोरोना को मात.. दूसरे सीरो सर्वेक्षण से हुआ खुलासा | 29.1% लोगों ने COVID-19 के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की

Second sero survey shows Around 58,00000(29.1%) people in Delhi have developed antibodies against COVID-19

सेकंड सीरो सर्वे से पता चलता है कि दिल्ली में 29.1% लोगों ने COVID-19 के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की है| 

Second sero survey in Delhi reveals more people have developed Covid-19 antibodies
इनमें से महिलाओं की दर 32.2 प्रतिशत अधिक थी, जबकि 28.3 प्रतिशत पुरुषों में ये एंटीबॉडीज थे।

“1-7 अगस्त के बीच किए गए दूसरे सीरोलॉजिकल सर्वे से पता चलता है कि 29.1% लोगों ने कोविद -19 के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की है। सर्वेक्षण के दौरान कुल 15,000 नमूने एकत्र किए गए थे।

जुलाई में किए गए पहले सीरो सर्वेक्षण की तुलना में, इस बार, दिल्ली की 5.62 प्रतिशत ज्यादा आबादी ने कोरोनावायरस के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की है।

COVID-19 से पूरी दुनिया परेशान है|  लेकिन दिल्ली के 29 फ़ीसदी लोगों ने कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित कर दुनिया को एक अच्छा संकेत दिया है|

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने जानकारी दी।जैन ने कहा, "1 अगस्त से 7. अगस्त के बीच दिल्ली में दूसरा सीरोलॉजिकल सर्वे किया गया था। सर्वेक्षण में हिस्से के तौर पर कुल 15,000 नमूने लिए गए थे।"

जुलाई में किए गए पहले सीरो सर्वेक्षण की तुलना में, इस बार, दिल्ली की अतिरिक्त 5.62 प्रतिशत आबादी ने उस बीमारी के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की है जो अब तक देश में 28 लाख से अधिक लोगों को संक्रमित कर चुकी है।इससे साफ है कि जितने मरीज दिल्ली में सामने आए उससे कहीं ज्यादा संक्रमित हुए और उन्होंने अपने अंदर एंटीबॉडी विकसित कर इस बीमारी को टेस्ट और इलाज के बिना ही मात दे दी| 

मंत्री ने कहा, "राष्ट्रीय राजधानी की दो करोड़ आबादी में से, लगभग 58 लाख लोगों को वायरस ने प्रभावित किया और इससे लड़ाई जीतकर उन्होंने एंटी-बॉडी उत्पन्न की है।"

"Out of two crore population of the national capital, around 58 lakh have been exposed to the virus and have generated anti-bodies," the minister said.

पहला सीरो निगरानी अध्ययन जून में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था और यह 27 जून से 10 जुलाई तक राष्ट्रीय राजधानी के सभी 11 जिलों में आयोजित किया गया था। इस प्रयोजन के लिए, शोधकर्ताओं ने उनकी सहमति के बाद चुनिंदा लोगों से रक्त के सेम्पल लिए और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा अनुमोदित COVID कवच एलिसा का उपयोग करते हुए lgG एंटीबॉडी और COVID -19 संक्रमण के लिए नमूनों का परीक्षण किया।

तब यह पाया गया था कि राजधानी की 23.48 प्रतिशत आबादी वायरस के संपर्क में थी। 

अब तक, राजधानी में 1,56,139 कोरोनावायरस मामले देखे गए हैं, जिनमें से 1,40,767 लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 11,137 सक्रिय मामले हैं। 

 


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ