10 मिनट के ये योग आसन : चुस्त दुरुस्त रखेंगे आपको

10 मिनट के ये योग आसन : चुस्त दुरुस्त रखेंगे आपको:
सुबह उठने के बाद आपके पास व्यायाम करने के लिए ज्यादा समय नहीं होता है। लेकिन पूरे दिन को ऊर्जावान बनाए रखने के लिए आपको योगासन Yoga Posture करने की जरूरत है। इसे करने में 10 मिनट का समय लगेगा।

ये भी पढ़ें..योग के रहस्य: सिर्फ आसन ही नहीं है योग? योगावस्था क्या है? What is Yoga and what is the real meaning of Yoga?

योग करने के कई फायदे हैं। नियमित योग करने से आपका दिल मजबूत होता है। याददाश्त मजबूत होती है। बीपी की समस्या नहीं रहती है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपके मस्तिष्क में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इसलिए रोज सुबह उठकर इन योगों को आजमाएं और अपने शरीर को फिट और स्वस्थ रखें।

बालासन- 


ये भी पढ़ें..योगासन: तनाव, सिरदर्द से छुटकारा पायें

इस आसन को करने से शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और पेट की चर्बी कम होती है। इस आसन को करने के लिए जमीन पर घुटनों के बल बैठ जाएं और अपने पूरे शरीर को एडियो पर रखें। गहरी सांस लें और आगे की ओर झुकें। आपकी छाती जांघों को छूना चाहिए और अपने सिर के माध्यम से जमीन को छूने की कोशिश करनी चाहिए। कुछ सेकंड के लिए इस स्थिति में रहें और सामान्य स्थिति में लौट आएं।

भुजंगासन- 


यह आसन शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम करता है और आपके शरीर को लचीला बनाता है। भुजंग को अंग्रेजी में कोबरा कहा जाता है और यह एक सांप के आकार का आसन है। इसलिए इस आसन का नाम भुंजगासन रखा गया है। इसे करने के लिए जमीन पर पेट के बल लेट जाएं। अब दोनों हाथों से शरीर को कमर से ऊपर उठाएं। साथ ही कोहनियां भी मुड़ी होनी चाहिए। हाथ खुले और जमीन पर फैल गए। अब शरीर के बाकी हिस्सों को हिलाए बिना चेहरे को ऊपर की ओर ले जाएं। कुछ देर इसी स्थिति में रहें।

ये भी पढ़ें..10 world famous yoga gurus in india | भारत के प्रसिद्ध योगा गुरू

उत्तरासन- 


इस आसन का अभ्यास खड़े रहकर किया जाता है। यह आसन सिर, कमर और पैरों की हड्डियों के साथ-साथ रीढ़ की हड्डी का भी व्यायाम करता है। खड़े होकर योग का अभ्यास करने के बाद इस आसन का अभ्यास करना विशेष रूप से फायदेमंद होता है। इसे करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं। सांस लेते हुए हाथ को सिर के ऊपर ले आएं। शरीर को ऊपर खींचो। शरीर को कूल्हों से आगे की ओर झुकाएं। अब सिर और गर्दन को आराम की मुद्रा में जमीन की ओर रखें और कूल्हों को ऊपर की ओर उठाएं। इस पोजीशन में एक मिनट तक रहें।

त्रिकोणासन- 


ये भी पढ़ें..मोटापा कम करने में सहायक “सूर्य नमस्कार” आसन व अश्वगंधा की पत्ती – योगाचार्य विजय श्रीवास्तव

शरीर की अतिरिक्त चर्बी कम करने के लिए त्रिकोणासन करें। इसे करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं। दोनों पैरों के बीच एक मीटर की दूरी रखें। दोनों पक्षों को कंधों से सीधा रखें। कमर से मोड़ें। साँस छोड़ते हुए अब दाएं हाथ से बाएं पैर को छुएं। बाएँ हाथ को आकाश की ओर रखें। कंधों को सीधा रखें। बाएं हाथ को देखें। इस स्थिति में दो-तीन मिनट तक रहें। अब शरीर को सीधा करें और सांस लेते हुए खड़े हो जाएं।

पश्चिमोत्तासन- 


यह आसन पेट की चर्बी कम करने में काफी मददगार होता है। कब्ज, अपच, गैस, डकार और मधुमेह में लाभकारी। इसे करने के लिए अपने पैरों को सामने फैलाकर बैठ जाएं। अब अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर रखें, अपनी भुजाओं को ऊपर की ओर ले जाएं और अपनी कमर को सीधा करके ऊपर की ओर खींचें। सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें और हाथ से पैर के अंगूठे को पकड़ें और सिर को घुटनों तक ले आएं। यहां घुटने नहीं झुकने चाहिए। आंखें बंद कर कुछ देर सांस को रोककर रखें। फिर सांस लेते हुए वापस आएं।

ये भी पढ़ें..जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए रोजाना करें ये 3 योगासन

शरीर की सुंदरता का संबंध हमारी रीढ़ और मांस से है। यदि ज्यादा हो तो वसा लिए घातक है। वसा बिलकुल न भी हो तो भी यह घातक है। इसलिए संतुलन जरूरी है। हड्डियों के लचीले और मजबूत होने से संतुलन आता है। 

इसके चार उपाय भी जानें:

1. सूक्ष्म व्यायाम करें। 

2. नियमित रूप से छह आसन करें- ताड़ासन, त्रिकोणासन, पश्चिमोत्तानासन, उष्ट्रासन, धनुरासन और नौकासन।  

3. प्राणायाम।

4. मालिश।

योग सूर्य नमस्कार १२ आसनों और कुछ अन्य आसनों का मेल है। पावर योग एक प्रकार का योग है जिसमें आपको दिन में केवल 45 मिनट का समय देना होता है। पावर योग में सभी क्रियाएं बिना रुके बहुत जल्दी हो जाती हैं। 

ये भी पढ़ें..योग व योगा में क्या अंतर है? योग करने के बाद  जीवन में क्या बदलाव आता है  ?

योगा करने के फायदे:

1.कैलोरी निकलती है।

2.शरीर की सहनशक्ति, शक्ति, लचीलापन बढ़ाता है।

3.रक्त संचार बढ़ाता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है

4.पसीने के जरिए सारी गंदगी बाहर निकल जाती है।

5.तनाव और अवसाद दूर होते हैं।

क्या पावर योगा अन्य कार्डियो और स्ट्रेंथ एनहांसमेंट एक्सरसाइज से बेहतर है:

जहां 1 घंटे का पावर योगा 200 कैलोरी बर्न करता है, वहीं एरोबिक्स, स्विमिंग और जॉगिंग जैसी अन्य एक्सरसाइज से 1 घंटे में 300 से 400 कैलोरी बर्न होती है। लेकिन पावर योगा आपके शरीर को अच्छी तरह से टोन करता है, वह भी शरीर के किसी भी हिस्से पर बिना किसी तनाव के। इसलिए यह योग बुजुर्गों के लिए बहुत अच्छा माना जाता है क्योंकि इसका मांसपेशियों पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। 

ये भी पढ़ें..योग के संबंध में भ्रांतियां : YOG करामात और चमत्कार नहीं| 

हफ्ते में कम से कम तीन बार पावर योगा जरूर करें। इससे शरीर की कैलोरी बर्न करने की क्षमता बढ़ती है जिससे आसानी से मोटापा कम हो सकता है और शरीर को आकर्षक आकार मिल सकता है। पीठ का दर्द होने पर भी इस योग को करने से रीढ़ की हड्डी को ताकत मिलती है। पावर योग में कठिन और निरंतर क्रियाएं शामिल हैं। एक ही क्रिया बार-बार दोहराई जाती है। सारा जोर शारीरिक ताकत और लचीलेपन पर है। 

किसी योग विशेषज्ञ की सलाह से ही पावर योगा करना चाहिए। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि महीनों तक रोजाना 20 मिनट ध्यान करने से आपकी सेहत में बड़ा सुधार देखने को मिलेगा।

आज चारों ओर तनाव बढ़ रहा है। इसमें शांति पाने के लिए लोग ध्यान की ओर रुख कर रहे हैं। दरअसल, लोग अब योग में शारीरिक और मानसिक समस्याओं का समाधान ढूंढ रहे हैं। अगर आप भी इनमें से एक हैं तो रिफ्रेश योगा ऑप्शन आपकी मदद करेगा।

रिफ्रेश योग:-


कुछ लोग कहते हैं कि दैनिक जीवन में सांस लेने का समय नहीं है, तो योग या ध्यान के लिए समय कहां से निकालें। ऐसी शिकायत करने वालों के लिए रिफ्रेश योग फायदेमंद रहेगा। बता दें कि रिफ्रेशिंग योग प्राणायाम का हिस्सा है, लेकिन अगर आप इसे करेंगे तो आपको धीरे-धीरे राहत मिलेगी। अगर आप थके हुए हैं तो कुछ ही दिनों में आप स्वस्थ महसूस करने लगेंगे।



ये भी पढ़ें.. योग के विकास का इतिहास…


EDITOR DESK



हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ