मनुष्य— सभ्यता के साथ कैसे हुआ विकास? ये जानना बहुत ज़रूरी है?

Image result for मनुष्य--- सभ्यता के साथ कैसे हुआ विकास?

  • जिस काल में मनुष्य के द्वारा घटनाओं का कोई लिखित विवरण नहीं प्राप्त होता है उसे प्रागैतिहासिक काल  कहा जाता है |
  • आघ -ऐतिहासिक काल  उस काल को कहा जाता है जिसके लिखित साक्ष्य तो प्राप्त हुए है किन्तु उन्हें अभी तक पढ़ा नहीं जा सका है जैसे सिंधु घाटी सभ्यता |
  • मानव विकास के उस काल को ऐतिहासिक काल कहा जाता है , जिसका विवरण लिखित रूप में उपलब्ध है |
  •  मानव धरती पर प्लाइस्टोसीन के आरम्भ में पैदा हुआ तथा आधुनिक मानव को हम होमो सेपियन्स या प्रज्ञ मानव के नाम से जानते है |
  •  आग का आविष्कार पुरा-पाषाणकाल में हुआ |
  • चाक (पहिए )का आविष्कार नव-पाषाणकाल में हुआ था |
  •  मनुष्य में स्थायी निवास की प्रव्रती नव-पाषाणकाल में हुई |
  • मनुष्य  ने  सर्वप्रथम तांबा धातु का प्रयोग किया था |
  •  अलेक्जेंडर कनिघम को भारतीय पुरातत्व का पिता कहा जाता है |
  •  रेडियो कार्बन C14 जैसी नवीन विशलेषण -पद्धति के द्वारा सिन्धु सभ्यता को सर्वमान्य तिथि 2350ई.पू. से 1750ई.पूर्व मानी गयी है इस सभ्यता की खोज 1921ई. में रायबहादुर दयाराम साहनी ने की थी
  • सिन्धु सभ्यता या सैन्धवं  सभ्यता नगरीय सभ्यता थी |सैन्धवं सभ्यता से प्राप्त परिपक्व अवस्था में वाले स्थलों में केवल  6 को ही नगर की संज्ञा डी गयी है,ये है -मोहनजोदड़ो,हड़प्पा ,लोथल ,कालीबंगा ,एवं चन्हुदड़ो |
  •  सर्वप्रथम हडप्पा नामक स्थल से जानकारी मिलने के कारण इसे हडप्पा सभ्यता नाम दिया गया |
  •  मोहनजोदड़ो से प्राप्त व्रहत स्नानागार एक प्रमुख स्मारक है , जिसके मध्य स्थित स्नानकुंड 11.18 मीटर लम्बा ,7.01मीटर चौड़ा एवं 2.43 मीटर गहरा है |
  • सिंधु सभ्यता की लिपि भाव चित्रात्मक है , जिसे बूस्त्त्रोफेदन के नाम से जाना जाता है |
  • सिन्धु सभ्यता के लोगो ने नगरो तथा घरो के विन्यास के लिए ग्रीड पद्धति अपनायी |
  • मातर -देवी -पूजा , पेड़ -पूजा एव शिव-पूजा के प्रचलन के साक्ष्य भी सिन्धु सभ्यता से मिलते है |

पाषाण काल

  1. पाषाण काल को तीन भागों में बांटा गया है -पुरापाषाण काल ,मध्य्पाषाण काल ,तथा नवपाषाण काल |
  2. पुरापाषाण काल में मनुष्य की जीविका का मुख्य आधार शिकार था |इस काल को आखेटक तथा खाद्य -संग्राहक जाल भी कहा जाता है |
  3. लगभग 36,000ई.पु. में आधुनिक मानव पहली बार अस्तित्व में आया |आधुनिक मानव को 'होमो सेपियनस ' भी कहा जाता है |
  4. मानव द्वारा प्रथम पालतू पशु कुता था ,जिसे मध्य पाषाण काल में पालतू बनाया गया |
  5. आग की जानकारी मानव को पूरा पाषाण काल से ही  थी ,किन्तु इसका प्रयोग नवपाषण काल से प्रारंभ हुआ |
  6. नव पाषण काल से मानव ने क्रषि कार्य प्रारंभ किया ,जिससे उसमे स्थायी निवास की प्रव्रती विकसित हुई |
  7. भारत में पाषाण कालीन सभ्यता का अनुसंधान सर्वप्रथम रॉबर्ट बुर्स फुट ने 1863ई.में प्रारंभ किया |
  8. भारत में व्य्यस्थित क्रषि का पहला साक्ष्य मेहरगढ़ से प्राप्त हुआ है |
  9. बिहार के चिरांद नामक नवपाषाण कालीन स्थल से हड्डी के औजार मिले है |
  10. पाषण काल के तीनो चरणों का साक्ष्य बेलन घाटी इलाहाबाद से प्राप्त हुए है |
  11. औजारो में प्रयुक्त की जाने वाली पहली धातु तांबा थी तथा इस धातु का ज्ञान मनुष्य को सर्वप्रथम हुआ था |
  12. चावल की खेती का प्राचीनतम साक्ष्य कोलडी हवा (इलाहाबाद )से पाया गया है |
  13. पहिए का आविष्कार नवपाषाण में हुआ |


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ