शिवसेना सांसद संजय राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को बताया विपक्ष का भीष्म पितामह..

शिवसेना सांसद संजय राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को बताया विपक्ष का भीष्म पितामह..

 

ममता बनर्जी के दिल्ली दौरे के बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को विपक्ष का भीष्म पितामह बताया है | उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी आकर्षण का केंद्र बनी हैं लेकिन कांग्रेस के बिना मोदी पर जीत संभव नहीं लगती | भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने राउत के बयान का मजाक उड़ाते हुए पूछा, ‘क्या इसलिए वह (शरद पवार) दिल से पांडवों के साथ हैं ?’

 

Sanjay Raut on Pm Modi

 

सोशल मीडिया पर लोग सांसद के बयान पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं | लोगों का मानना ​​है कि सांसद ने भाजपा के लिए पांडवों का जिक्र किया है। संजय राउत ने कहा, ”पवार विपक्ष के पितामह हैं | उनकी सलाह से राजनीति में कई फैसले लिए जाते हैं। विपक्ष कमजोर है तो समझो लोकतंत्र भी कमजोर है। अक्सर ऐसा होता है कि क्षेत्रीय ताकतों के नेताओं को राष्ट्रीय स्तर पर आगे आना पड़ता है।

 

सुब्रमण्यम स्वामी के शब्दों के कई अर्थ निकाले जा रहे हैं क्योंकि उन्होंने पौराणिक चरित्र के जवाब में अन्य पौराणिक पात्रों का उल्लेख किया है। महाभारत की बात करें तो भीष्म पितामह जाहिर तौर पर कौरवों के पक्ष में थे, लेकिन अपने दिल में वे चाहते थे कि पांडव विजयी हों। वह समय-समय पर पांडवों को विजय श्री का आशीर्वाद भी देते थे। हालांकि, उन्हें कौरवों की तरफ से लड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

 

जहां तक ​​मौजूदा राजनीति की बात है तो प्रशांत किशोर की शरद पवार से मुलाकात के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि पवार बीजेपी के खिलाफ विपक्ष को सक्रिय करने में बड़ी भूमिका निभाएंगे| हालांकि अब उनसे आगे ममता बनर्जी आ रही हैं| पवार से मुलाकात के बाद यह भी कहा कि कांग्रेस का मोदी के खिलाफ मोर्चा में रहना जरूरी है|

 

 

 


हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


    श्रेणियाँ