वित्तीय स्थिरता के लिए गंभीर खतरा बन गई क्रिप्टोकरेंसी : RBI


स्टोरी हाइलाइट्स

रिजर्व बैंक ने जारी की क्रिप्टोकरंसी चेतावनी क्रिप्टोकरेंसी वित्तीय स्थिरता के लिए गंभीर खतरा बन गई है

क्रिप्टोकरेंसी में काम करने वालों के लिए, यह एक कठिन काम हो सकता है। रिजर्व बैंक ने भारत में क्रिप्टोकरेंसी की कानूनी वैधता पर सवाल उठाते हुए एक बार फिर चेतावनी जारी की है।

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि क्रिप्टोकरेंसी ने आरबीआई के लिए गंभीर चिंता पैदा कर दी है। उन्होंने कहा कि क्रिप्टोकरंसी को लेकर एक नियामक के तौर पर आरबीआई के सामने कई चुनौतियां हैं। आरबीआई गवर्नर ने क्रिप्टोकरेंसी को सूक्ष्म आर्थिक संतुलन और वित्तीय स्थिरता के लिए एक गंभीर खतरा बताया है।

सरकार क्रिप्टोकरेंसी को मान्यता देने पर विचार कर रही है

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी में निवेशकों की संख्या बढ़ रही है। बड़ी संख्या में ऐसे निवेशक हैं जिन्होंने क्रिप्टोकरेंसी में केवल 1,000 रुपये या 2,000 रुपये का निवेश किया है।

आरबीआई गवर्नर ने बीएफएसआई शिखर सम्मेलन में कहा कि आरबीआई ने सरकार को क्रिप्टोकरेंसी पर एक विस्तृत रिपोर्ट सौंपी है। सरकार तेजी से क्रिप्टोकरेंसी पर विचार कर रही है।

इससे पहले, आरबीआई गवर्नर ने कहा था कि आरबीआई को इस बात की चिंता है कि बाजार में क्रिप्टोकरेंसी का कारोबार किस तरह से हो रहा है। आरबीआई की डिजिटल करेंसी एक चीज है और क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से अलग। सरकार और आरबीआई दोनों वित्तीय स्थिरता के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमने सरकार को क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित सभी चिंताओं के बारे में सूचित कर दिया है।

शक्तिकांत दास ने कहा कि आरबीआई फिएट मुद्रा के डिजिटल संस्करण पर काम कर रहा है और वर्तमान में डिजिटल मुद्रा पेश किए जाने पर वित्तीय स्थिरता पर प्रभाव का अध्ययन कर रहा है।

क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में तेजी से उतार-चढ़ाव होता है। इसलिए आवाज उठाई जा रही है कि इसे विदेशी संपत्ति माना जाए। सरकार को तय करना है कि उन्हें पूरी मंजूरी दी जाए या नहीं।

प्रियम मिश्र

प्रियम मिश्र