Nawab Malik की असलियत! Sameer Wankhede से है पर्सनल खुन्नस! सामने आई सबसे बड़ी वजह..


स्टोरी हाइलाइट्स

समीर वानखेडे पर मंत्री नवाब मलिक हमलावर क्यों हैं? क्या समीर से उनकी निजी लड़ाई है... 

नवाब मलिक महाराष्ट्र उद्धव सरकार में वरिष्ठ राकांपा नेता और कैबिनेट मंत्री, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के जोनल निदेशक समीर वानखेडे पर लगातार हमलावर हैं। शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की ड्रग्स के मामले में गिरफ्तारी के बाद से नवाब मलिक लगातार एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेडे पर आरोप लगाते रहे हैं. 

अब बड़ा सवाल यह है कि समीर वानखेडे पर मंत्री नवाब मलिक हमलावर क्यों हैं?

क्या समीर से उनकी निजी लड़ाई है... 

आज हम खोलेंगे नवाब मलिक की असलियत का पुराण...

नवाब मलिक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की महा विकास अघाड़ी सरकार में अल्पसंख्यक, कौशल विकास और उद्यमिता के कैबिनेट मंत्री हैं। नवाब को राकांपा का मुस्लिम चेहरा माना जाता है और वह पार्टी प्रमुख शरद पवार के बेहद करीब हैं। 

महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक मूल रूप से उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। मलिक पहले मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी के नेता थे, बाद में अपने राजनीतिक लाभ के लिए समाजवादी पार्टी छोड़कर शरद पवार की एनसीपी में शामिल हो गए।

महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक के परिवार में उनकी पत्नी महजबीन, बेटा मेराज, आमिर और बेटियां नीलोफर और सना शामिल हैं। नवाब मलिक के दामाद का नाम समीर खान है। बता दें कि पिछले साल अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की हत्या के मामले के बाद जब रिया चक्रवर्ती को ड्रग्स के आरोप में जेल भेजा गया था, नवाब मलिक के दामाद समीर खान का भी नाम सामने आया। पूछताछ के दौरान ड्रग तस्कर ने समीर खान का नाम भी लिया, जिसके बाद उसे एनसीबी ने गिरफ्तार कर लिया। 

तब से नवाब मलिक एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेडे के खिलाफ हो गये हैं।

मंत्री नवाब मलिक के दामाद समीर खान को मामले में एनसीबी ने गिरफ्तार किया था  इसी मामले के मुख्य आरोपी करण सजनानी ने दावा किया, "एनसीबी ने हर्बल तंबाकू को गांजे के रूप में दिखाकर कार्रवाई की और हमें गलत तरीके से गिरफ्तार किया।"

सजनी एक ब्रिटिश नागरिक हैं. वह कई सालों से मुंबई आ-जा रहा है। इसी बीच उनकी और समीर खान की मुलाकात हो गई।

समीर खान नवाब मलिक की बेटी नीलोफर के पति हैं। समीर खान को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने तलब किया था। समीर खान ने ड्रग संदिग्ध करण सजनानी के साथ गूगल पे के जरिए 20,000 रुपये का लेनदेन किया था। आरोप है कि समीर ने सजनी को गूगल पे के जरिए ड्रग्स सप्लाई करने के लिए 20 हजार रुपये भेजे। ड्रग मामले की जांच के दौरान लेनदेन का पता चला। 

इसलिए एनसीबी ने मामले की जांच के लिए समीर को बुलाया था। इस मामले में उनसे पूछताछ की गई थी। समीर खान को बाद में एनसीबी ने 14 जनवरी को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा मुच्छड़ पानवाला की दुकान के मालिक रामकुमार तिवारी को भी एनसीबी ने ड्रग कनेक्शन मामले में गिरफ्तार किया था. तिवारी को भांग और ड्रग्स बेचते पकड़ा गया था। नतीजतन, उन्हें जेल भेज दिया गया था।

समीर वानखेडे की पत्नी क्रांति रेडकर ने कहा कि कोई यह क्यों नहीं पूछता कि मलिक के दामाद समीर खान के पास कितने किलो ड्रग्स मिली?

नवाब मलिक ड्रग्स के बारे में बात नहीं कर रहे हैं। उन्हें समीर वानखेडे की निजी जिंदगी पर बोलने का क्या हक है। मलिक का दामाद ड्रग के मामले में शामिल है और समीर वानखेडे हिंदू हैं।

नवाब मलिक हर दिन हमारे खिलाफ नए आरोप लगा रहे हैं जिनमें कोई तथ्य नहीं है।


 

पुराण डेस्क

पुराण डेस्क