कार्टल बनाकर अधोसंरचना लागत दरें बढ़ाने वाले कार्टल को तोड़ने की तैयारी

कार्टल बनाकर अधोसंरचना लागत दरें बढ़ाने वाले कार्टल को तोड़ने की तैयारी
Roadsसड़क और हाईवेज के निर्माण में स्टील और सीमेंट के विकल्प पर सरकार विचार कर रही है. केंद्रीय भूतल एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इकोनामिक टाइम्स से चर्चा करते हुए कहा कि भारत सरकार हाईवे निर्माण में बढ़ती लागत को देखते हुए सीमेंट और स्टील के उपयोग को कम करने पर विचार कर रही है.

केंद्रीय भूतल एवं परिवहन मंत्रालय के अंतर्गत एक उच्चस्तरीय समिति का गठन किया गया है. यह समिति सभी विकल्पों पर विचार करेगी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निर्माण के क्षेत्र में अपनाई जा रही बेस्ट प्रैक्टिसेज का अध्ययन कर सुझाव देगी.

केंद्रीय मंत्री गडकरी इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भी लिख रहे हैं. गडकरी का मानना है कि एक नियामक आयोग बनना चाहिए जो इस क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियों कंपनियों को नियंत्रित कर सके. इन कंपनियों को नियंत्रण में रखना आवश्यक है. अगर इसी तरह से चलता रहा तो सड़कों का निर्माण कैसे हो सकेगा? 

Gadkariप्रधानमंत्री आवास योजना में मकान कैसे बन सकेंगे और छोटे उद्योग कैसे जिंदा रह सकेंगे? एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में गडकरी ने कहा कि सीमेंट कंपनियों द्वारा जिस तरह का असंतुलन पैदा किया जा रहा है, उसे सहन नहीं किया जा सकता. यह कंपनियां एक समूह बना कर दरें बढ़ा देती हैं. छोटे उद्योग इसके कारण संकट का सामना कर रहे हैं.

गडकरी का कहना है कि उनका मंत्रालय प्रयास कर रहा है कि ड्यूटी फ्री सीमेंट और स्टील का आयात किया जा सके। उन्होंने बताया कि मंत्रालय ने यह भी बदलाव किया है कि गवर्नमेंट स्टैंडर्ड को ध्यान रखते हुए स्टील किसी भी सप्लायर से खरीदा जा सकता है. जबकि पहले यह प्रैक्टिस रही है की रियल मैन्युफैक्चरर से ही स्टील खरीदा जा सकता है. 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हाईवेज निर्माण का रिकॉर्ड बनाया गया है और अब पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप कॉन्ट्रैक्ट के अंतर्गत समन्वय एवं समझौते का तंत्र मजबूत मजबूत करने पर फोकस किया है. उनका मानना है कि उसकी इस प्रक्रिया में बहुत कमजोरियां हैं. इनको गहराई से समझने की जरूरत है. 

road
उनका मानना है कि आर्बिट्रेशन के सभी मामलों का निराकरण 3 माह के अंदर हो जाना चाहिए. गडकरी ने बताया कि भारत में वित्तीय वर्ष 2021 में रिकॉर्ड 13 हजार 400 किलोमीटर हाईवेज का निर्माण देश में किया गया है. हर दिन लगभग 37 किलोमीटर हाईवेज का निर्माण किया गया है. 

अब मंत्रालय का फोकस सड़कों के निर्माण की गुणवत्ता को सुधारने और निर्माण लागत में कमी लाना है. गडकरी ने बताया कि अगले साल प्रतिदिन 40 किलोमीटर हाईवे का निर्माण किया जाएगा. गडकरी का कहना है कि अधोसंरचना निर्माण में बढ़ती लागत चिन्ता का विषय है.




हमारे बारे में

न्‍यूज़ पुराण (PURAN MEDIA GROUP)एक कोशिश है सत्‍य को तथ्‍य के साथ रखने की | आपके जीवन में ज्ञान ,विज्ञान, प्रेरणा , धर्म और आध्‍यात्‍म के प्रकाश के विस्‍तार की |
News Puran is a humble attempt to present the truth with facts. To spread the light of knowledge, promote scientific temper, inspiration, religion and spirituality in your life.


संपर्क करें

0755-3550446 / 9685590481



न्‍यूज़ पुराण



समाचार पत्रिका


श्रेणियाँ